खफा

दुश्मनों की बात मत पूंछों ,

दोस्त भी बर्दाश्त नहीं होते ।

न जाने क्या हो गया मुझको !

खुद से बहुत खफा हूँ मैं ।

ला देता वक्त से पहले कयामत ।

अच्छा हुआ खुदा नहीं हूँ मैं । ………रवि

23 Views
Copy link to share
You may also like: