.
Skip to content

खण्ड खण्ड कर दिया भारत को, अखण्ड भारत तो ख्वाब रहा

अरविन्द दाँगी

अरविन्द दाँगी "विकल"

कविता

March 9, 2017

मेरे साहित्य जीवन की प्रथम भारत कविता
————————————————
खण्ड खण्ड कर दिया भारत को, अखण्ड भारत तो ख्वाब रहा

1
खण्ड – खण्ड कर दिया भारत को, अखण्ड भारत तो ख्वाब रहा,
टुकड़े – टुकड़े कर डाले हें, अब रोटी मे वो स्वाद कहाँ,
हर दिल को तोड़ा हे हमने, अब वो निश्छल प्यार कहाँ,
रो रही बुलबुल पेड़ो पर, अब कोयल की कुह कहाँ,
खण्ड-खण्ड कर दिया भारत को, अखण्ड भारत तो ख्वाब रहा ।।
2
हमने तोड़े मंदिर-मस्जिद, अब क्यो ढूंढे शांत जगह,
मानव को मानव से लड़वाया, अब दिलो मे प्यार कहाँ,
छोड़ दी हमने मानवता, इंसान के रूप मे भगवान कहाँ,
क्रोध – क्रूरता भरी हे मन मे, फिर शांति संतोष कहाँ,
खण्ड-खण्ड कर दिया भारत को, अखण्ड भारत तो ख्वाब रहा ।।
3
लूट का व्यापार बढ़ा हे, सदाचार का वक्त कहाँ,
दिलो मे केवल बैर भरा हे, जीवन की मधुता हे कहाँ,
राजनीति मे घुस भरी हे, रह गया प्रजाहित कहाँ,
वर्दी वाले बने दुराचारी, शोषित पाये न्याय कहाँ,
खण्ड-खण्ड कर दिया भारत को, अखण्ड भारत तो ख्वाब रहा ।।
4
आतंक की लम्बी मिसाल हे, अब शांति की बयार कहाँ,
भय मे डुबे और सहमे हे, चेहरो पर वो मुस्कान कहाँ,
जीवन से प्यारी मौत मानली, अब जीवन से प्यार कहाँ,
अपराधी हुये ओर बुलंद हे, उनके मन मे खौफ कहाँ,
खण्ड-खण्ड कर दिया भारत को, अखण्ड भारत तो ख्वाब रहा ।।
5
जीवन मे फ़ैली लाचरी, जीने की उम्मीद कहाँ,
आजादी के संग गुलामी, स्वतंत्र भारत का ख्वाब कहाँ,
चहू और फ़ैली बरबादी, मानवता का नाम कहाँ
सेवा हो रही उधर कसाब की, हरिश्चंद्र जैसा न्याय कहाँ,
खण्ड-खण्ड कर दिया भारत को,अखण्ड भारत तो ख्वाब रहा ।।

✍कुछ पंक्तियाँ मेरी कलम से : अरविन्द दाँगी “विकल”

Author
अरविन्द दाँगी
जो बात हो दिल की वो कलम से कहता हूँ.... गर हो कोई ख़ामोशी...वो कलम से कहता हूँ... ✍अरविन्द दाँगी "विकल"
Recommended Posts
अखण्ड भारत बनाना होगा
खण्ड खण्ड होते भारत को अखण्ड बनाना होगा, सरदार पटेल जी आपको दोबारा से आना होगा। निज स्वार्थ को असंख्य घाव दे दिए नेताओं ने,... Read more
हर नगर फहराये तिरंगा, अखण्ड भारत की शान रहे
तीन रंगों से सजा हमेशा अपना हिंदुस्तान रहे जोश केसरिया अंग अंग में, भरे खेत खलिहान रहे भेदभाव को भूल शांति सन्देश चलो अब फैलाएं... Read more
सच्चाइयाँ वो अब कहाँ
कविता जहाँ पर जन्म ले तन्हाइयाँ वो अब कहाँ कुछ शब्द हैं पर भाव की गहराइयाँ वो अब कहाँ फूलों भरी वो वादियाँ कलकल कहाँ... Read more
कविता :भारत पाक युद्ध
भारत पाक युद्ध में मारे गए पाक सैनिक। पाक गवर्नर ने पूछा कहाँ के थे वो सैनिक, मार गिराया हमारे सेनिकों को बताओ सैनिक, एक... Read more