.
Skip to content

क्षणिक आपदा

पं.संजीव शुक्ल सचिन

पं.संजीव शुक्ल सचिन

शेर

August 23, 2017

बाढ़ आई है , आने दो, सुनामी थोड़ी है
ये क्षणिक आपदा है , प्रलय थोड़ी है
जब वक्त आयेगा कुछ बांट देंगे राहत के नाम हम भी,
अभी सरकार के पास फिजूल वक्त थोड़ी हैं।
पं.संजीव शुक्ल “सचिन”

Author
पं.संजीव शुक्ल सचिन
मैं पश्चिमी चम्पारण से हूँ, ग्राम+पो.-मुसहरवा (बिहार) वर्तमान समय में दिल्ली में एक प्राईवेट सेक्टर में कार्यरत हूँ। लेखन कला मेरा जूनून है।
Recommended Posts
यहाँ जियालों की ऐसे बखान थोड़ी है
कई है मुल्क मगर उनमें शान थोड़ी है कोई भी हिन्द के जैसा महान थोड़ी है ? हजार फूल की खुश्बू से मुअत्तर है ये... Read more
ये तो है खंजर मियान थोड़ी है
कई है मुल्क मगर उनमें शान थोड़ी है कोई भी हिन्द के जैसा महान थोड़ी है ? हजार फूल की खुश्बू से मुअत्तर है ये... Read more
आस
बेशुमार नाकामियों के बाद,जब कामयाबी का सूरज जगमगाता है, ज़िन्दगी हो जाती है तारो से सजी,हर दिन दिल को लुभाता है I बुरे दौर में... Read more
कुछ शब्द~१०
मैंने माँगी थी थोड़ी-सी ख़ुशी तुमने ग़मों से भर दी ज़िंदगी ----- आओ पास बैठे, कुछ इख़्तिलाफ दूर करे वक़्त क्यूँ ज़ाया करे हम, यूँ... Read more