"क्षणिका"

“क्षणिका”
————————-
हवाओं ने फैलायी,
थी तेरी आने की,
ख़ुशबु ,
इंतज़ार भी किया,
ताउम्र मैंने ,
संदेश हवा का,
बस झूठा निकला
———————-
राजेश”ललित”शर्मा

Like Comment 0
Views 12

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share