.
Skip to content

क्षणिका :– दिल में तू…….।।

Anuj Tiwari

Anuj Tiwari "इन्दवार"

कविता

March 20, 2017

क्षणिका :–

दिल में तू बसी है ,
होठों पर हँसी है
क्या तू तड़पायेगी सदा ।
आँखों में तेरा चहरा ,
पलकें देती पहरा
कहीँ हो न जाए तू जुदा ॥

अनुज तिवारी “इंदवार”

Author
Anuj Tiwari
नाम - अनुज तिवारी "इन्दवार" पता - इंदवार , उमरिया : मध्य-प्रदेश लेखन--- ग़ज़ल , गीत ,नवगीत ,कविता , हाइकु ,कव्वाली , तेवारी आदि चेतना मध्य-प्रदेश द्वारा चेतना सम्मान (20 फरवरी 2016) शिक्षण -- मेकेनिकल इन्जीनियरिंग व्यवसाय -- नौकरी प्रकाशित... Read more
Recommended Posts
तू ही तो मुझको प्यारा है
मेरी दुनिया मेरी जन्नत तू ही तो जीवन सारा है| मेरी हर आरजू तू ही ,तू ही तो मुझको प्यारा है|| मेरा जीवन मेरी धड़कन... Read more
जिन्दगी है तू ही...................... तू ही प्रीत है |गीत| “मनोज कुमार”
जिन्दगी है तू ही और तू ही मीत है तू साँसें तू धड़कन तू ही गीत है तू आशा मिलन तू ही संगीत है तू... Read more
अर्चना मेरी है तू
21-06-2016 सांसों में बसी है तू ज़िन्दगी बनी है तू तुझसे कैसे हूँ जुदा दिल की आशिकी है तू चाहें सब कहे गलत मैं कहूँ... Read more
⁉क्या है तू ⁉
⁉क्या है तू ⁉ रुह की प्यास बुझा दी है तेरी क़ुरबत ने। तू कोई झील है, झरना है, घटा है, क्या है तू? नाम... Read more