क्षणिका :-- दिल में तू.......।।

क्षणिका :–

दिल में तू बसी है ,
होठों पर हँसी है
क्या तू तड़पायेगी सदा ।
आँखों में तेरा चहरा ,
पलकें देती पहरा
कहीँ हो न जाए तू जुदा ॥

अनुज तिवारी “इंदवार”

Like Comment 1
Views 160

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share