.
Skip to content

क्यो बेटी मारी जाती है

कृष्णकांत गुर्जर

कृष्णकांत गुर्जर

कविता

January 31, 2017

हे माँ बतला इक बात मुझे,क्यो बेटी मारी जाती है|
कल माँ भी तो बेटी थी माँ ,फिर क्यो जिंदा रह जाती है||
बेदो मे और कुरानो मे,क्यो बेटी पूँजी जाती है|
सतद्वापर त्रैत्रा कलयुग मे माँ,बेटी ही श्रृष्टि रचाती है||
क्यो भूल रही गाथा उनकी, जिन्हे दुनिया शीश झुकाती है|
नौ देवी जग जननी मैया, कन्या का रूप कहाती है||
सीता रानी लक्ष्मी भी तो,क्यो जग जननी कहलाती है|
राधा मीरा की विरह कथा,लता की तान सुनाती है||
बस बात मुझे बतलादे तू, क्यो बेटी को मारी जाती है|
लानत है माँ की ममता पर,क्यो अपनी माँ को लजाती है||
मे बेटी हूँ मेरा दोष है क्या, क्यो दिल मे आग लगाती है|
माँ क्यो ममता के आँचल मे,बेटे को तू यूँ सुलाती है||
बेटा गर पानी देगा तो,बेटी भी बंश चलाती है|
बेटा तो कुल को चलाता है,बेटी दो कुल को चलाती है||
मेरी बात मान ले माँ प्यारी ,तू दिल को दुखलाती है|
बेटी भी पढ लिख कर माँ सुन, दुनिया मे नाम कमाती है||
हे माँ बतला इक वात मुझे,क्यो बेटी मारी जाती है|
बेटी तो बेटी होती है,वो भी माँ सपने सजाती

Author
कृष्णकांत गुर्जर
संप्रति - शिक्षक संचालक G.v.n.school dungriya G.v.n.school Detpone मुकाम-धनोरा487661 तह़- गाडरवारा जिला-नरसिहपुर (म.प्र.) मो.7805060303
Recommended Posts
क्यो बेटी मारी जाती है
हे माँ बतला इक बात मुझे,क्यो बेटी मारी जाती है| कल माँ भी तो बेटी थी माँ ,फिर क्यो जिंदा रह जाती है|| बेदो मे... Read more
माँ का दूध लजाते क्यो
क्यो जकड़े तुम लाचारी मे माँ का दूध लजाते क्यो| चैन से सोते अपने घरो मे खुशी के दीप जलाते क्यो|| खुशी खुशी सब खुशी... Read more
मैं बेटी हूँ
???? मैं बेटी हूँ..... मैं गुड़िया मिट्टी की हूँ। खामोश सदा मैं रहती हूँ। मैं बेटी हूँ..... मैं धरती माँ की बेटी हूँ। निःश्वास साँस... Read more
बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ
Neelam Ji कविता Feb 23, 2017
**बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ** पढ़ेगी बेटी आगे बढ़ेगी बेटी । बेटों से भी बढ़कर चमकेगी बेटी । जग में नाम रोशन करेगी बेटी । हर... Read more