31.5k Members 51.9k Posts

क्यों बेदहमीं है

Jul 10, 2016 08:54 AM

आप तो आप हो जी, हम हमीं हैं
सब कुछ तो ठीक है मगर
तो फ़िर कहाँ कमी है !
—————–
है सूर्य देवता ऊपर
आसमां भी ऊपर है
धरती, धरती ही ठहरी
कडापन है कहीं , कहीं नमी है
—————
हुस्न के दिलवाले है कहीं
तो कहीं देश के रखवाले हैं
हैं मतवाले भी बहुत मगर
फिर भी क्यों बेदहमी है !
————-
भूखा है आज भी किसान
सूखी पडी ज़मीं है
मौत तो सबको लिखी है मगर
यहाँ तो लाज़मी है !
—————————-
पैसा है, रुपैया है
इस दफें न कोई भैय्या है
मत फेंको इस तरह गंदगी
आगे देखो गंगा है मैय्या है !
—————-
लूट है कहीं कहीं मार है
भ्रष्ट है भ्रष्टाचार है !
सोच तो लो इक बार बारे में ज़रा
जो भूखे हैं लाचार हैं !
—————–
चरित्रवान है कोई , कोई बेहया है
ये वक्त की पुकार ही है
समझते सब, जानते भी सभी हैं
मगर न भाव है कहीं न कहीं दया है !
__________________________ बृज

1 Like · 6 Comments · 44 Views
Brijpal Singh
Brijpal Singh
81 Posts · 3.6k Views
मैं Brijpal Singh (Brij), मूलत: पौडी गढवाल उत्तराखंड से वास्ता रखता हूँ !! मैं नहीं...
You may also like: