.
Skip to content

क्यों इश्क हुआ हमको

Govind Kurmi

Govind Kurmi

कविता

April 13, 2017

जो भूल चुके हमको
हम याद करें उनको
क्या सोच रहा ये दिल
क्यों तड़पाये खुदको

?????????

क्यों इश्क में ये जलता
क्यों सूरज सा ढलता
दिल ठोकर खा भी चुका
क्यों फिर भी मचलता

?????????

क्यों याद वो आती है
क्यों दर्द वो लाती है
सपनों में आ आकर
क्यों रातों को जगाती है

?????????

क्यों सूनी लगे महफिल
क्यों तड़प रहा ये दिल
जब नामुमकिन है ये
क्यों कहता उनसे मिल

?????????

क्यों इश्क हुआ हमको
दिल चाह रहा रम को
अब बहुत तड़प चुके हम
दिल भूलना चाहे तुमको

?????????

Author
Govind Kurmi
गौर के शहर में खबर बन गया हूँ । १लड़की के प्यार में शायर बन गया हूँ ।
Recommended Posts
गज़ल ( बात अपने दिल की )
गज़ल ( बात अपने दिल की ) सोचकर हैरान हैं हम , क्या हमें अब हो गया है चैन अब दिल को नहीं है ,नींद... Read more
*गज़ल*
जान जाने के हैं' आसार खुदा जाने क्यों आप से हो गया' है प्यार खुदा जाने क्यों बात जिनमें हो तुम्हारी ही तुम्हारी केवल अच्छे... Read more
कपकपाती थरथराती ये सज़ा क्यों है?
कपकपाती थरथराती ये सज़ा क्यों है फिर भी ठंड का इतना मज़ा क्यों है? ये सिहरन, ये ठिठुरन ये गरमाई क्यों है देर से उठने... Read more
नारी व्यथा
" नारी-व्यथा " """""""""""""""""" कैसी निर्बल ? कैसी निशक्त ? क्यों अबला मैं बन बैठी ?? क्यों मेरा अपमान हुआ ? क्यों मेरा चीर-हरण हुआ... Read more