23.7k Members 50k Posts

क्यों आरजू है चाँद से

दुनियां में ऎसे लोग बहुत मिल ही जायेंगे ।
सीखा था जिनने हमसे वो हमको सिखाएंगे ।।

क्यों आरजू है चाँद से अब आरजू न कर ।
जुगनू बने है तारे जो रस्ता दिखाएंगे ।।

जब तेरी वफ़ा तुझसे ही तो रूठ जायेगी ।
इल्ज़ाम उनके सारे तेरे सर पे आएंगे ।।

दस्तूरों के चलन में है अब दोस्ती फँसी
बस खेल खेल में ही वादे टूट जायेंगे ।।

क्यों फर्क बताये भला कोई झूठ साँच में ।
वो पेड़ आम का है वो इमली बताएंगे ।।

जज्बातों की जमी पे हमने बो दिए बबूल ।
कोई लाख चाहे फूल तो कांटे ही पाएंगे ।।

सुनील सोनी “सागर”

133 Views
sunil soni
sunil soni
15 Posts · 1.8k Views
जिला नरसिहपुर मध्यप्रदेश के चीचली कस्बे के निवासी नजदीकी ग्राम chhenaakachhaar में शासकीय स्कूल में...
You may also like: