क्योंकि माँ तो, माँ होती है ।। - कवि आनंद

धरती के रज से बालक का, जब प्रथम समागम होता है ।
कोई बच्चा, इस दुनिया को , जब देख ठिठक कर रोता है ।।
होकर उल्लासित माँ, उसको तत्क्षण ही गले लगाती है ।
अपनी ममता निर्झरिणी का, हर पल आभास कराती है ।।
उसकी आँखों में दुनिया का, हर सुन्दर स्वप्न संजोती है ।
क्योंकि माँ तो, माँ होती है ।।
सिखलाती है प्रति क्षण- प्रतिपल, निज पैरों पर चलना उसको ।
अपने कर्मों की ज्वाला में ही, हर क्षण-क्षण जलना उसको ।।
शिक्षा की पहली सीढ़ी से, तालिमो का अनवरत सफर ।
सिखलाती है हँसते रहना, सुख में या दुःख में जीवन भर ।।
हर बीज सफलता का प्रतिपल, बेटे के मन में बोती है ।
क्योंकि माँ तो, माँ होती है ।।
कहती है मानवता बेटे, मजहब से हरदम ऊपर है ।
क्या भेद जाति या वंशों में, काया सबकी यह नश्वर है ।।
है सदा पराजय ही अच्छी, छलयुक्त विजय से गरिमामय ।
तू लाख करे सौदा तन का, अंतस का मत करना विक्रय ।।
माँ की ममता की आभा में, फीकी हर सुन्दर मोती है ।
क्योंकि माँ तो, माँ होती है ।।

—– कवि आनंद

Like 13 Comment 45
Views 507

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share