.
Skip to content

क्यूं दिखती खुशी में कमी-सी है ? क्यूं आँखों में भी थोड़ी नमी-सी है ?

पूनम झा

पूनम झा

गज़ल/गीतिका

November 16, 2016

” गजल ”
————
क्यूं दिखती खुशी में कमी-सी है ?
क्यूं आँखों में भी थोड़ी नमी-सी है ?
*
हँस लेते हैं अश्क पीकर, पर ये
जिंदगी तो लगती अनमनी-सी है।
*
दिल की बात दिल में दबी रहती
अपनों में तो गहमागहमी -सी है।
*
सीख लिया अब काँटों पर चलना
देखो फूलों पर तो गर्द जमी-सी है।
*
कोशिश रहता गमे दिल न बने पर
टटोलते नब्ज तो लगता थमी-सी है।
*
जीते हैं हम सभी,हँसते हैं हम सभी
पर अश्क भी आँखों में घुटी-सी है।
*
जुबां को भी रोक देता है दिल,क्यूं
दिल इतनी सहमी-सहमी -सी है ?
*
सवाल होता कभी खुद से तो कभी
खुदा से,कयूं ये जमीं हिल रही-सी है ।
*
मिल जाए जवाब तो बताना “पूनम”
को भी क्यूं हर जगह सनसनी-सी है।
#पूनम_झा । कोटा, राजस्थान। 16-11-16
######################

Author
पूनम झा
मैं पूनम झा कोटा,राजस्थान (जन्मस्थान: मधुबनी,बिहार) से । सामने दिखती हुई सच्चाई के प्रति मेरे मन में जो भाव आते हैं उसे शब्दों में पिरोती हूँ और यही शब्दों की माला रचना के कई रूपों में उभर कर आती है।... Read more
Recommended Posts
** ये दिल हुआ ना कभी अपना **
ये दिल हुआ ना कभी अपना हुआ पराया होकर भी अपना खायी ज़ालिम जमाने की ठोकर दर-दर डर-डर आपा खो कर ये दिल की लगी... Read more
गजल
गजल कौन यादों में यूँ बसी सी है क्यों निगाहों में खलबली सी है चांदनी पूछती दरिंचो से रात दुल्हन सी क्यों सजी सी है... Read more
बिन तुम्हारे जिंदगी अधूरी सी है/मंदीप
बिन तुम्हारे जिंदगी अधूरि सी है/मंदीप बिन तुम्हारे जिन्दगी अधुरी सी है, बिन तुम्हारे कुछ कमी सी है। ख़ुशी होती देख तुम्हे जिन आँखो को,... Read more
धुंधला धुंधला अक्स
धुंधला धुंधला अक़्स, ख़ुशी कम दिखती है ये आँखे जब आईने में नम दिखती है आ तो गया हमको ग़मों से निभाना लेकिन हमसे अब... Read more