क्यूँ माँ के दूध को लज्जित किया ??

क्यूँ माँ के दूध को लज्जित किया ?
// दिनेश एल० “जैहिंद”

खींच कर तूने स्त्री के आँचल को,,
क्यूँ माँ के दूध को लज्जित किया ?
खल-क्रीड़ा कर नारी-अस्मत संग,,
क्यूँ माँ की ममता को खंडित किया ??

क्यूँ सद्भावना से तेरी दुश्मनी,,
क्यूँ कुविचार को अंगीकार किया ?
क्यूँ खलकामी, कापुरूष बनकर,,
इस पुरुष-कौम को शर्मसार किया ??

तूने त्यागकर अपनी गरिमा को,,
हर बार असहनीय कुकर्म किया |
कभी अकेले तो कभी दस-बीस,,
दर्दनाक और अक्षुण्ण मर्ज दिया ||

चीड़कर मानवता की छाती,,
तूने कैसा अक्षम्य पाप किया !
तूने एकान्त में बैठ गंग तिरे,,
कभी स्वयम् पर संताप किया ??

तू वीर, बहादुर, बलवान पुरुष,,
तूने इस जगत में बड़ नाम किया |
क्यूँ लम्पट, नीच, अधम, पापी,,
निज पौरुषता को बदनाम किया ??

=============
दिनेश एल० “जैहिंद”
12. 09. 2018

Sahityapedia Publishing
Like Comment 0
Views 1

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share

Do you want to publish your book?

Sahityapedia's Book Publishing Package only in ₹ 9,990/-

  • Premium Quality
  • 50 Author copies
  • Sale on Amazon, Flipkart etc.
  • Monthly royalty payments

Click this link to know more- https://publish.sahityapedia.com/pricing

Whatsapp or call us at 9618066119
(Monday to Saturday, 9 AM to 9 PM)

*This is a limited time offer. GST extra.