.
Skip to content

क्यूँकि हम बेटियाँ हैं

किरन मिश्रा

किरन मिश्रा

कविता

January 24, 2017

रचनाकार-किरणमिश्रा
विधा-कविता

“क्यूँकि हम बेटियाँ हैं”

महकाऊंगी कोख तुम्हारी,
बोवोगे गर बेटियाँ!
बंजर हो जायेगी सारी दुनिया,
मारोगे गर बेटियाँ !!

अमूल्य निधि हूँ,मुझको पहचानो
दोनों कुल की आन हूँ !
महापाप है गर्भ में हत्या,
माँ मैं भी तेरी सन्तान हूँ!!

बालिका-वधू मुझे बनाके,
जीवन ना बनाओ,अभिशाप मेरा!
मुझे पढ़ाओ,मुझे लिखाओ,
छूने दो आसमान तुम!!

भइयाजी की आन बनूँगी,
मम्मीपापा तुम्हारी जान मैं!
पढ़लिखकर सूरज सी चमकूँगी,
मैं भी विश्व पटल पर शान से!!

गुड़िया बन कर खेलूँगी
माँ तुम्हारी छाँव में!
चिड़ियाँ बन के उड़ जाऊँगी
सासू जी के गाँव में!!

पिता हिमालय की गंगा बन,
सींचूँगी ससुराल को !
सासससुर और जेठ-ननद
रिश्तों की भरमार को!!

जीवन साथी साथ निभाना,
वेदों के उच्चार से!
जीवन ज्योति सदा उजागर
हम दोनों के प्यार से!!

सुन्दर बगिया महकायेंगें,
नन्हें फूलों की मुस्कान से !
दिगदिगन्त तक लहरायेंगें,
दोनों कुल की शान को !!””

“एक आग्रह हमें भी जीने दो “क्यूँकि हम बेटियाँ है”

Author
किरन मिश्रा
"ज़िन्दगी खूबसूरत कविता है,और मैं बनना चाहती हूँ इक भावनामयी कुशल कवियत्री" जन्म तिथि - 28 मार्च शिक्षा - एम.ए. संस्कृत बी. एड, नेट क्वालीफाइड, संप्रति- आकाशवाणी उद्घघोषिका(भूतपूर्व) प्रकाशित कृति- साँझा संकलन "झाँकता चाँद"(हायकु) विभिन्न पत्र- पत्रिकाओं में समय-समय पर... Read more
Recommended Posts
हैं न बेटों से कम बेटियाँ
हैं न बेटों से कम बेटियाँ हरती है घर का तम बेटियाँ है न कमजोर रखती बहुत हौसलों का ये दम बेटियां श्रेष्ठता में भी... Read more
चलती है बेटियाँ
मंजिल की राह मे,चलती है बेटियाँ | चलती है बेटियाँ, बढ़ती है बेटियाँ || दिल हजारो अरमां,संजोती है बेटियाँ | संजोती है बेटियाँ, पिरोती है... Read more
कविता
"बेटियाँ" अब परिचय की मोहताज नही बेटियाँ आज माँ पिता की सरताज हैं बेटियाँ । गंगा जैसी निर्मल,अग्नि सी निश्च्छल शीतल समीर की झोंका हैं... Read more
बेटियाँ
।। बेटियाँ ।। सारे संसार में भगवान की सबसे अच्छी कृति हैं बेटियाँ , बाप का मान सम्मान और ईश्वर का वरदान हैं बेटियाँ ।... Read more