.
Skip to content

क्या होता है बचपन ऐसा

निर्मला कपिला

निर्मला कपिला

कविता

July 8, 2016

कविता

मम्मी से सुनी उसके बचपन की कहानी
सुन कर हुई बडी हैरानी
क्या होता है बचपन ऐसा
उड्ती फिरती तितली जैसा
मेरे कागज की तितली में
तुम ही रंग भर जाओ ना

नानी ज्ल्दी आओ ना

अपने हाथों से झूले झुलाना
बाग बगीचे पेड दिखाना
सूरज केसे उगता है
केसे चांद पिघलता है
परियां कहाँ से आती हैं
चिडिया केसे गाती है
मुझ को भी समझाओ ना

नानी जल्दी आओ ना

गोदीमेंले कर दूध पिलाना
लोरी दे कर मुझे सुलाना
नित नये पकवान खिलाना
अच्छी अच्छी कथा सुनाना
अपने हाथ की बनी खीर का
मुझे स्वाद चखाओ ना

नानी जल्दी आओ ना

अपना हाल सुना नहीं सकता
बसते का भार उठा नही सकता
तुम हीघोडी बन कर
इसका भार उठाओ ना

नानी ज्ल्दी आओ ना

मेरा बचपन क्यों रूठ गया है
मुझ से क्या गुनाह हुअ है
मेरी नानी प्यारी नानी
माँ जेसा बचपन लाओ ना

नानी ज्ल्दी आओ ना

Author
निर्मला कपिला
लेखन विधायें- कहानी, कविता, गज़ल, नज़्म हाईकु दोहा, लघुकथा आदि | प्रकाशन- कहानी संग्रह [वीरबहुटी], [प्रेम सेतु], काव्य संग्रह [सुबह से पहले ], शब्द माधुरी मे प्रकाशन, हाईकु संग्रह- चंदनमन मे प्रकाशित हाईकु, प्रेम सन्देश मे 5 कवितायें | प्रसारण... Read more
Recommended Posts
कविता :-- काम करने चला बचपन !!
कविता :-- काम करने चला बचपन !! खानें की चाह पे खोया बचपन रातों को राह पे सोया बचपन , सहम-सहम के रोया बचपन फिर... Read more
बचपन की छाँव में
आओ चलें बचपन की छाँव में.....? .................................................. बड़े दिनों बाद हमारे तरफ का रूख किया यार, बचपन का लंगोटिया यार आज इतने दिनों बाद कैसा... Read more
"लघु कविता" ------------------- नये घाव की क्या है जल्दी पुराना तो भरने दो अभी उमर है जो भी बाकी मिल जायेगा नसीब में घाव ही... Read more
( कविता ) बचपन की यादें
वो बचपन की यादें, बड़ी ही सुहानी बहुत याद आते वो किस्से कहानी । वो गुल्ली, वो डंडा, वो कंचों का खेला मुहल्ले मे लगता... Read more