Skip to content

क्या होगा नये साल में

हेमा तिवारी भट्ट

हेमा तिवारी भट्ट

कविता

December 31, 2016

नाचती ता थैय्या काल की करताल में
मना रही जश्न पर,घिरी हूँ सवाल में
सोच रही हूँ,क्या होगा नये साल में

क्या धरा के सीने से रवि फूटेगा
या किसी निर्धन का दिल नहीं टूटेगा
रह पायेगा खुश क्या वो फटेहाल में
सोच रही हूँ क्या होगा नये साल में

क्या जीव चौपाया हवा में उड़ेगा
या निशंक दिल,दिल से जुड़ेगा
क्या मन भोला न फँसेगा किसी जाल में
सोच रही हूँ क्या होगा नये साल में

क्या घन गगन का भू पे उग आयेगा
या नर,नर से धोखा नहीं खायेगा
मन में छिपा,क्या पढ़ेंगे कपाल में
सोच रही हूँ क्या होगा नये साल में

क्या बड़े बड़े वृक्ष धावक हो जायेंगे
या पिल्ले सिंहशावक हो जायेंगे
जाने क्या लिखा है,आगत के भाल में
सोच रही हूँ क्या होगा नये साल में

✍हेमा तिवारी भट्ट✍

Share this:
Author
हेमा तिवारी भट्ट
लिखना,पढ़ना और पढ़ाना अच्छा लगता है, खुद से खुद का ही बतियाना अच्छा लगता है, राग,द्वेष न घृृणा,कपट हो मानव के मन में , दिल में ऐसे ख्वाब सजाना अच्छा लगता है
Recommended for you