.
Skip to content

* क्या हम शरीफ इतने कमजोर होते हैं *

भूरचन्द जयपाल

भूरचन्द जयपाल

कविता

April 16, 2017

कितनी अजीब बात है दोस्तों
शरीफ कभी एक नही होते हैं
बदमाश एक होकर भी अनेक
अनेक होकर भी एक होते हैं
ज़रा सोचो विचार करो दोस्तों
क्या हम ………………………
शरीफ इतने कमजोर होतेँ है।।
????????????????₹?????
?मधुप बैरागी

Author
भूरचन्द जयपाल
मैं भूरचन्द जयपाल स्वैच्छिक सेवानिवृत - प्रधानाचार्य राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय, कानासर जिला -बीकानेर (राजस्थान) अपने उपनाम - मधुप बैरागी के नाम से विभिन्न विधाओं में स्वरुचि अनुसार लेखन करता हूं, जैसे - गीत,कविता ,ग़ज़ल,मुक्तक ,भजन,आलेख,स्वच्छन्द या छंदमुक्त रचना आदि... Read more
Recommended Posts
*** हम दिल के मरीज  ***
हम दिल के मरीज़ भी कितने अजीब हैं कहते हैं अपनी बहाना गैरों का करते हैं चश्मदीद वो अपना नहीं जानते हम हैं उसे ख़ुदा... Read more
एक एकता
आइये एक होकर चले राह पर नफरतो को दिलो से मिटा दीजिए हम हिन्दू नही हम मुस्लिम नही एकता क्या है दुनिया को दिखा दीजिए... Read more
मेरे दोस्तों को ना आये ओ काम क्या करू....
(54) मेरे दोस्तों को ना आये ओ काम क्या करू साथ घूमु-घुमाऊ और काम क्या करू शायर तो मैं बन जाऊ लेकिन दोस्तों को समझ... Read more
भैया क्या हुआ?
???? भैया क्या हुआ? जो तुम इतने दूर हो गये। क्यो नहीं मिलने आते, क्यो इतने मजबूर हो गये? ? मेरे गली से गुजरे, घर... Read more