.
Skip to content

क्या सोचा है तुमने,

Sonika Mishra

Sonika Mishra

कविता

October 30, 2016

क्या सोचा है तुमने,
आज दिवाली क्यूँ मना रहे ।
ऐसी कौन सी विजय मिली,
जो दीप खुशी का जला रहे ।।
क्या सोचा है तुमने,

अरमान किसी के टूट रहे,
बिखर रहे हैं सपने ।
दुश्मन के नापाक इरादों से,
छूट रहे हैं अपने ।।
क्या सोचा है तुमने,

हां हम भी दीप जलाएगे
जब असल विजय हम पाएंगे
न होगी दहशत दिल में
ऐसी दिवाली हम मनाएंगे
क्या सोचा है तुमने,

– सोनिका मिश्रा

Author
Sonika Mishra
मेरे शब्द एक प्रहार हैं, न कोई जीत न कोई हार हैं | डूब गए तो सागर है, तैर लिया तो इतिहास हैं ||
Recommended Posts
ग़ज़ल- आज ये क्या किया सनम तुमने
ग़ज़ल- आज ये क्या किया सनम तुमने ★★★★★★★★★★★★★ आज ये क्या किया सनम तुमने जो न सोचा दिया वो गम तुमने तेरे प्याले में था... Read more
तुमने याद किया क्या???????????
मन में कैसी टीस उठी है तुमने याद किया क्या? निज नैनो में प्यास जगी है तुमने याद किया क्या????? खिलते मिलते सब यारों से,... Read more
!! याद जो दिल से जाती नहीं !!
न कोई चिंता थी मन में न कुछ कोई कभी सोचा था वो बचपन का साथ छोड़ जाना यह शायद कभी सोचा न था !!... Read more
उम्मीद अपनी क्या करें,,,
उम्मीदें अपनी क्या करें, जज़्बात क्या करें, अपने ही बस में जब नहीं, हालात क्या करें, कशकोल अपने अपने लिए आते हैं सभी, सिक्के हमारे... Read more