क्या सोचा है तुमने,

क्या सोचा है तुमने,
आज दिवाली क्यूँ मना रहे ।
ऐसी कौन सी विजय मिली,
जो दीप खुशी का जला रहे ।।
क्या सोचा है तुमने,

अरमान किसी के टूट रहे,
बिखर रहे हैं सपने ।
दुश्मन के नापाक इरादों से,
छूट रहे हैं अपने ।।
क्या सोचा है तुमने,

हां हम भी दीप जलाएगे
जब असल विजय हम पाएंगे
न होगी दहशत दिल में
ऐसी दिवाली हम मनाएंगे
क्या सोचा है तुमने,

– सोनिका मिश्रा

Like 1 Comment 0
Views 117

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing