Skip to content

क्या वजह लिखूँ ?

डॉ०प्रदीप कुमार

डॉ०प्रदीप कुमार

कविता

December 18, 2017

क्या वजह लिखूँ ?
—————————–

क्या वजह लिखूँ तेरे इश्क की ?
कोई वजह नहीं ,बेवजह हुआ !
ना कोई प्रतिस्पर्धा थी……….
बस प्रेम में मैं तो अजय हुअा ||
चलता गया मैं प्रेम डगर पर !
राहों में कहीं भटकन ना थी |
राह अंधेरी , पथ था सूना…..
पर ! कोई भी खटकन ना थी |
मिली मुझे तुम मंजिल बनकर ,
अब ओर कोई दरकार ना थी |
तुम ही शासक , तुम ही प्रजा….
तुझ बिन कोई सरकार ना थी ||
तुम ही मेरी सुबह की पूजा ,
तुम बिन कोई अजान ना थी |
तुम बनी दीपशिखा ! दीप की ,
मेरी ओर कोई पहचान ना थी ||
———————————-
— डॉ० प्रदीप कुमार दीप

Share this:
Author
डॉ०प्रदीप कुमार
From: खेतड़ी
नाम : डॉ०प्रदीप कुमार "दीप" जन्म तिथि : 02/08/1980 जन्म स्थान : ढ़ोसी ,खेतड़ी, झुन्झुनू, राजस्थान (भारत) शिक्षा : स्नात्तकोतर ,नेट ,सेट ,जे०आर०एफ०,पीएच०डी० (भूगोल ) सम्प्रति : ब्लॉक सहकारिता निरीक्षक ,सहकारिता विभाग ,राजस्थान सरकार | सम्प्राप्ति : शतक वीर सम्मान... Read more
Recommended for you