Skip to content

क्या ये नही हो सकता

Himanshu Jain

Himanshu Jain

लेख

August 10, 2017

अभी 7 तारीख को रक्षाबंधन निकला और हमने इसे मनाया भी पर हम रक्षाबंधन मनाते क्यों हैं ?
क्या होता है इस दिन ?
हमने एक कहानी सुनी थी मेवाड़ की रानी कर्मावती को बहादुरशाह द्वारा मेवाड़ पर हमला करने की पूर्व सूचना मिली। रानी लड़ऩे में असमर्थ थी अत: उसने मुगल बादशाह हुमायूँ को राखी भेज कर रक्षा की याचना की। हुमायूँ ने मुसलमान होते हुए भी राखी की लाज रखी और मेवाड़ पहुँच कर बहादुरशाह के विरूद्ध मेवाड़ की ओर से लड़ते हुए कर्मावती व उसके राज्य की रक्षा की।
हमारी परम्पराओ के अनुसार बहन इस दिन भाई की कलाई पर राखी बांधती है और भाई उनकी रक्षा का वचन देता है
पर किससे रक्षा ?
शायद इस समाज से ? यंहा के लोगों से ?
उनकी घूरती हुयी नज़रों से?
किससे..?
तो क्यों हम ऐसा समाज निर्मित नही करते की जिसमे हमारी बहन को कोई खतरा न हो ?
क्यों हमारी बहनों को डर डर के जीना पड़ता है ?
क्यों उन्हें राखी बांध कर अपनी रक्षा के लिए प्रार्थना करनी पडती है?
क्यों न हम ऐसा समाज बनाये जिसमे हमारी बहनों को कोई डर कोई भय न हो
जिसमे वो अकेले कंही भी जा-आ सकें
जिसमे रात के समय भी वो सुरक्षित घर वापिस आ सके
जिसमे उन्हें ये महसूस हो की सभी जगह उसके भाई मौजूद है
और फिर उन्हें किसी कलाई पर राखी बांधकर ये न कहना पड़े की भाई मेरी रक्षा करना..
क्या ये नही हो सकता
~हिमांशु जैन हेमू~

Share this:
Author
Himanshu Jain

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग से अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें और आपकी पुस्तक उपलब्ध होगी पूरे विश्व में Amazon, Flipkart जैसी सभी बड़ी वेबसाइट्स पर

साहित्यपीडिया की वेबसाइट पर आपकी पुस्तक का प्रमोशन और साथ ही 70% रॉयल्टी भी

साल का अंतिम बम्पर ऑफर- 31 दिसम्बर , 2017 से पहले अपनी पुस्तक का आर्डर बुक करें और पायें पूरे 8,000 रूपए का डिस्काउंट सिल्वर प्लान पर

जल्दी करें, यह ऑफर इस अवधि में प्राप्त हुए पहले 10 ऑर्डर्स के लिए ही है| आप अभी आर्डर बुक करके अपनी पांडुलिपि बाद में भी भेज सकते हैं|

हमारी आधुनिक तकनीक की मदद से आप अपने मोबाइल से ही आसानी से अपनी पांडुलिपि हमें भेज सकते हैं| कोई लैपटॉप या कंप्यूटर खोलने की ज़रूरत ही नहीं|

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें- Click Here

या हमें इस नंबर पर कॉल या WhatsApp करें- 9618066119

Recommended for you