.
Skip to content

क्या जश्ने आज़ादी

हिमकर श्याम

हिमकर श्याम

कविता

August 14, 2016

तड़प रही आबादी
क्या जश्ने आज़ादी

जन-गण में लाचारी
भूख और बेकारी
हर आँखें फरियादी
क्या जश्ने आज़ादी

दर्द और तक़लीफ़ें
टूट रही उम्मीदें
मुश्किलें बेमियादी
क्या जश्ने आज़ादी

ना बिजली, ना पानी
नित मारती गिरानी
खुशियाँ लगे मियादी
क्या जश्ने आज़ादी

यह मजहबी दरारें
जाति, धर्म, दीवारें
हुकूमत में फ़सादी
क्या जश्ने आज़ादी

आगे-पीछे घातें
आतंक की बिसातें
बैचैन ज़िन्दगानी
क्या जश्ने आज़ादी

शहर शहर बंजारे
गरीबों की कतारें
ज़ख्मों के सब आदी
क्या जश्ने आज़ादी

सत्ता की मनमानी
रिश्वत बेईमानी
अब दागदार खादी
क्या जश्ने आज़ादी

केवल सिसकियाँ रहीं
कुछ तब्दीलियाँ नहीं
काग़ज़ी कामयाबी
क्या जश्ने आज़ादी

अंदाज़ बदलता है
बस ताज़ बदलता है
जाती नहीं गुलामी
क्या जश्ने आज़ादी

हर तरफ तंगहाली
दूर अभी खुशहाली
हो जंग की मुनादी
क्या जश्ने आज़ादी

© हिमकर श्याम

Author
हिमकर श्याम
स्वतंत्र पत्रकार, लेखक और ब्लॉगर http://himkarshyam.blogspot.in https://doosariaawaz.wordpress.com/
Recommended Posts
आज़ादी और देश प्रेम विशेषांक
Brijpal Singh लेख Aug 13, 2016
_________________________ आज़ादी कहीं खोई नहीं थी जो मिल गई, आज़ादी दिलवाई है उन शहादतो नें उन बलिवानों नें कुर्बान हुए जो इस वतन के लिए... Read more
जश्ने आजादी
जश्ने आजादी ये कैसा जश्ने आजादी है, एक दिन की देशभक्ति है एक दिन का दिखावा है सन्देशों की तो बाढ है ड्राई डे होने... Read more
असर
नफरतो के असर दिखाई दे रहे है हर तरफ कहर दिखाई दे रहे है असर क्या हुआ जश्ने आज़ादी का लाशो के शहर दिखाई दे... Read more
क्या होगा नये साल में
नाचती ता थैय्या काल की करताल में मना रही जश्न पर,घिरी हूँ सवाल में सोच रही हूँ,क्या होगा नये साल में क्या धरा के सीने... Read more