.
Skip to content

** बेटी का दर्द **

Neelam Ji

Neelam Ji

कविता

June 24, 2017

नई उम्मीदें नए सपने संजोती बेटी ।
शादी होकर जब ससुराल जाती बेटी ।।

जन्मजात रिश्तों से दूर हो जाती बेटी ।
बहू बनते ही अचानक बड़ी हो जाती बेटी ।।

पत्नी बन नए नए रिश्तों से बंध जाती बेटी ।
मायका छोड़ जब ससुराल जाती बेटी ।।

यादें पीहर की दिल में समेट ले जाती बेटी ।
दर्द अपनों से बिछड़ने का भी सह जाती बेटी ।।

प्यार ससुराल में ना पाकर भी चुप रह जाती बेटी ।
इतना सब सहकर भी अकेली रह जाती बेटी ।।

पीहर छोड़ जब ससुराल जाती बेटी ।
पीहर वाले कहते अब हुई पराई बेटी ।।

सास कहे पराए घर जाई पराई बेटी ।
पीहर पराई ससुराल पराई किसको अपना कहे बेटी ।।

घर कौन सा है मेरा पूछ रही दुनिया से बेटी ?
क्या गलती है मेरी पूछ रही है बेटी? पूछ रही है बेटी!

Author
Neelam Ji
मकसद है मेरा कुछ कर गुजर जाना । मंजिल मिलेगी कब ये मैंने नहीं जाना ।। तब तक अपने ना सही ... । दुनिया के ही कुछ काम आना ।।
Recommended Posts
*बेटी होती नहीं पराई ...*
बेटी होती नहीं पराई । पराई कर दी जाती है ।। पाल पोसकर जब की बड़ी । कहकर पराई क्यूँ विदा कर दी जाती है... Read more
" बेटियाँ " ------------ ये पूछो मत मुझसे क्या होती है बेटी न शब्द न परिभाषा में बंधती है बेटी। * चिड़िया नहीं, ममता से... Read more
*जब बेटी बड़ी हो जाती है ...*
उछल कूद बंद हो जाती है । जब बेटी बड़ी हो जाती है ।। चंचलता पीछे छूट जाती है । जब बेटी बड़ी हो जाती... Read more
मेरी बेटी मेरी सहेली
मेरे हर सुख दुःख की हमजोली है, —मेरी बेटी मेरी सबसे अच्छी सहेली है, —मेरी बेटी अपनी मीठी बातों से बहलाती है, —मेरी बेटी मेरे... Read more