.
Skip to content

क्या – क्या नाम दूँ !!!

दिनेश एल०

दिनेश एल० "जैहिंद"

गीत

November 12, 2017

क्या-क्या नाम दूँ !!!
// दिनेश एल० “जैहिंद”

कटीली, रसीली, नशीली
हैं ये गोरियाँ
छबीली, सजीली,रंगीली
हैं ये गोरियाँ
और भला क्या-क्या नाम दूँ,
और भी हैं नाम हजार इनके •••••••••

(1)
नाजुक कितनी कलाई इनकी
गरदन है जैसे सुराही इनकी
होंठ से चिपके ये होंठ ऐसे,,,
जैसे लगे ये गोलाई सीप की
पहेली, ठिठोली, भड़कीली,
हैं ये छोरियाँ,
और भला क्या-क्या नाम दूँ,
और भी हैं नाम हजार इनके ••••••••••

(2)
पतली-पतली हैं टाँग इनकी
कदली जैसी हैं जाँघ इनकी
डाली के जैसी कमर दीखती,,,
हिरनी जैसी है चाल इनकी
दामिनी, रागिनी, चाँदनी,
हैं ये पोरियाँ,
और भला क्या-क्या नाम दूँ,
और भी है नाम हजार इनके •••••••••

(3)
चिकनी सूरत बनाई इनकी
कजरारी आँखें बिठाईं इनकी
तौबा है रब की खुदाई रब की
शामत “जैहिंद” की बुलाई काहेकि
सोहिनी, मोहिनी, कामिनी,
हैं ये कुड़ियाँ,
और भला क्या-क्या नाम दूँ,
और भी हैं नाम हजार इनके ••••••••••

===============
दिनेश एल० “जैहिंद”
30. 09. 2017

Author
दिनेश एल०
मैं (दिनेश एल० "जैहिंद") ग्राम- जैथर, डाक - मशरक, जिला- छपरा (बिहार) का निवासी हूँ | मेरी शिक्षा-दीक्षा पश्चिम बंगाल में हुई है | विद्यार्थी-जीवन से ही साहित्य में रूचि होने के कारण आगे चलकर साहित्य-लेखन काे अपने जीवन का... Read more
Recommended Posts
दर्द- ए- दवा
"दर्द-ए-दवा" """"""""" दर्द में दर्द को दवा क्या दूँ ? दिल में दबी हैं जो दुआ वो क्या दूँ ? दहशत दाहक-सी है दगा क्या... Read more
राज क्या है………
राज क्या है……… कर दूँ बयान अगर हकीकत तो लाज़ क्या है ! तेरी खूबसूरती के आगे, भला ताज़ क्या है !! अंदर भी कब्ज़ा... Read more
दर्द
आँसू हैं इन आँखों में, इन आँसू को सहारा क्या दूँ । इक अजीब सा दर्द है सीने में, इस दर्द को सहारा क्या दूँ।... Read more
क्या बतायें तमाशा हुआ क्या
क्या बतायें तमाशा हुआ क्या देखिये और होता है क्या-क्या क्या अना, क्या वफ़ा, है हया क्या इस अहद में भला क्या, बुरा क्या बेनिशां... Read more