.
Skip to content

क्या कहे क्या करे

मानक लाल*मनु*

मानक लाल*मनु*

कविता

May 19, 2017

??क्या कहे क्या करे??
कुछ बातों को न ही कहो तो मेरे तेरे सब लिए ये अच्छा है,,,,
ये तो तुझे भी मालूम है कि में कितना और तू कितना सच्चा है,,,,

बात हम दोनों के दरमियां है जबतक,,,,
ये समझ जहाँ की नजर में तू भी अच्छा है,,,,

मत कुरेद मेरे दिल के जख्मो को हरजाई,,,,
वरना हरशक्स कहेगा तू कितना टुच्चा है,,,,

मानते तो हम आज भी तुझे अपना ही है,,,,
तेरी हरकतों से पता चला कितना लुच्चा है,,,

तलबगारी भी गजब की दिखाते हो साब,,,
एक हाथ मे ख़ंजर एक मे फूलो का गुच्छा है,

मनु की बात हरकोई बुरा मान जाता है,,,,
क्या करे ये दिल हमारा अभी भी बच्चा है,,,,
मानक लाल मनु,,,,
सरस्वती साहित्य परिषद,,,,

Author
मानक लाल*मनु*
सम्प्रति••सहायक अध्यापक2003,,, शिक्षा••MA,हिंदी,राजनीति,,, जन्मतिथि 15मार्च1983 पता••9993903313 साहित्य परिसद के सदस्य के रूप में रचना पाठ,,, स्थानीय समाचार पत्रों में रचना प्रकाशित,,, सभी विधाओं में रचनाकरण, मानक लाल मनु,
Recommended Posts
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है मगर छन भी आती कहीं रोशनी है न करती लबों से वो शिकवा शिकायत मगर बात नज़रों से... Read more
अभी पूरा आसमान बाकी है...
अभी पूरा आसमान बाकी है असफलताओ से डरो नही निराश मन को करो नही बस करते जाओ मेहनत क्योकि तेरी पहचान बाकी है हौसले की... Read more
मुक्तक
होते ही शाम तेरी प्यास चली आती है! मेरे ख्यालों में बदहवास चली आती है! उस वक्त टकराता हूँ गम की दीवारों से, जब भी... Read more
निकलता है
सुन, हृदय हुआ जाता है मृत्यु शैय्या, नित स्वप्न का दम निकलता है। रोज़ ही मरते जाते हैं मेरे एहसास, अश्क बनकर के ग़म निकलता... Read more