.
Skip to content

~~~ क्या कहा ?? भूल जाऊं ~~

अजीत कुमार तलवार

अजीत कुमार तलवार "करूणाकर"

कविता

March 1, 2017

जरा ! अपने मन से
पूछ लो तो, कि
तुम को कैसे भूला दूं
कितने ही सपने बुने थे
साथ साथ मिलकर
क्या उन सब को मन से
हटा दूं, प्रिये
क्या सोच् कर कहा
तुम ने की भूल जाऊं
हर पल जिस के
बिना न गुजरा समय
बिन कहे, सब कहाँ
दिल ने,
आवाज के बिना जो
सुना मन ने,
बिना आहट के
समझ लिया दिल से,
वक्त आने पर
सब जाना तुमने,
आज , यह कैसा कहा
तुमने कि, मैं
तुमको भूल जाऊं
किस बात का भ्रम
हुआ अब तुम्हारे मन में
क्या दिल के आयी
कुछ बात यूं तुम्हारे
इस सुने दिल में
कितनी गहराई से
प्रेम किया तुमने,
आज यह कह कर
सब कतम कर दिया
की तुम को भूल जाऊं,
जरा , फिर से सोचना
और खुद से मंथन करना
की, क्या सच में भूल जाऊं
तुमको इस जनम क्या
हर जन्म जन्म में ???

अजीत कुमार तलवार
मेरठ

Author
अजीत कुमार तलवार
शिक्षा : एम्.ए (राजनीति शास्त्र), दवा कंपनी में एकाउंट्स मेनेजर, पूर्वज : अमृतसर से है, और वर्तमान में मेरठ से हूँ, कविता, शायरी, गायन, चित्रकारी की रूचि है , EMAIL : talwarajit3@gmail.com, talwarajeet19620302@gmail.com. Whatsapp and Contact Number ::: 7599235906
Recommended Posts
** कैसे भूल जाऊं **
कैसे भूल जाऊं अपने दिल की आवाज़ दिल को कैसे समझाऊं दिल की बात कैसे भूल जाऊं ........... कैसे मैं मर जाऊं, झूठी शान के... Read more
***   दो मुक्तक ***
27.6.17 दोपहर। 3.23 रेत के समंदर - सा सूखा ये दिल मेरा अधूरी - प्यार है और बैचैन ये दिल मेरा तुम चाहे प्यार की... Read more
तुमने याद किया क्या???????????
मन में कैसी टीस उठी है तुमने याद किया क्या? निज नैनो में प्यास जगी है तुमने याद किया क्या????? खिलते मिलते सब यारों से,... Read more
डबडबाई सी आँखों को ख़्वाब क्या दूं
डबडबाई सी आँखों को ख़्वाब क्या दूं चेहरा पढ़ने वालों को क़िताब क्या दूं मुस्कुराहट और ये जलवा-ए-रुखसार इन गुलाबों के चमन को गुलाब क्या... Read more