.
Skip to content

कौन हो तुम

arti lohani

arti lohani

कविता

January 2, 2017

कौन हो तुम जो चुपके से
अंदर चले आ रहे हो
कौन हो तुम जो बिन आहट
अन्तस मैं दस्तक दे रहे हो
फूल मुरझा कर बिखर चुके
हरियाली का निशाँ तक नहीं
ये स्याह सी काली रातें
गम और दर्द से भरे दिन
कौन हो तुम जो इस निर्जन में
उम्मीद बाँधे आ रहे हो
कौन हो तुम जो इत्मीनान से
बिखरे पन्ने फ़िर से समेट रहे हो
छपा है क्या अब भी इनमें कुछ
बचा है क्या अब भी कुछ
किन रास्तों को पार कर
अजनबी तुम यहाँ तक आ गये
पैरों के निशां तक तो मिटा दिये थे
परछाई भी साथ छोड़ चुकी
फिर कैसे तुम इस वीरान बंजर में
तुम क्यों आ गये
कौन हो तुम? कौन हो तुम?

Author
arti lohani
Recommended Posts
शेष तुम विशेष तुम!
अस्तित्व में तुम अभी अस्तित्व भी न रहे पर तुम रहोगे जब सब थमेगा बस तुम बहोगे शेष तुम विशेष तुम आज तुम ,कल भी... Read more
सनम तुम आ जाओ................|गीत|   “मनोज कुमार”
सनम तुम आ जाओ सजन तुम आ जाओ...........२ अभी तुम तोड़ के बंदिश, सभी तुम छोड़ के रंजिश सनम तुम आ जाओ सजन तुम आ... Read more
** तुम वफ़ा क्या जानो **
6.5.17 ***** रात्रि 11.11 तुम वफ़ा क्या जानो तुम जफ़ा क्या जानो क्यों कोई तुमसे ख़फा हो तुम क्या जानो ख़ार है या प्यार है... Read more
ग़ज़ल
ज़िन्दगी से थकी थकी हो क्या तुम भी बे वज्ह जी रही हो क्या देख कर तुम को खिलने लगते हैं तुम गुलों से भी... Read more