.
Skip to content

कौन साथ ले जा पाया है रुपया पैसा महल अटारी

मदन मोहन सक्सेना

मदन मोहन सक्सेना

गज़ल/गीतिका

October 11, 2017

कौन किसी का खाता है अपनी किस्मत का सब खाते
मिलने पर सब होते खुश हैं ना मिलने पर गाल बजाते

कौन साथ ले जा पाया है रुपया पैसा महल अटारी
धरा ,धरा पर ही रह जाता इस दुनिया से जब हम जाते

इन्सां की अब बातें छोड़ों ,हमसे अच्छे भले परिंदे
मंदिर मस्जिद गुरूदारे में दाना देखा चुगने जाते

अगले पल का नहीं भरोसा जीबन में क्या हो जायेगा
खुद को ग़फ़लत में रखकर सब रुपया पैसा यार कमाते

अपना अपना राग लिए सब अपने अपने घेरे में
सबकी “मदन ” यही कहानी दिन और रात गुजरते जाते

कौन साथ ले जा पाया है रुपया पैसा महल अटारी

मदन मोहन सक्सेना

Author
मदन मोहन सक्सेना
मदन मोहन सक्सेना पिता का नाम: श्री अम्बिका प्रसाद सक्सेना संपादन :1. भारतीय सांस्कृतिक समाज पत्रिका २. परमाणु पुष्प , प्रकाशित पुस्तक:१. शब्द सम्बाद (साझा काब्य संकलन)२. कबिता अनबरत 3. मेरी प्रचलित गज़लें 4. मेरी इक्याबन गजलें मेरा फेसबुक पेज... Read more
Recommended Posts
मेरी ग़ज़ल जय विजय ,बर्ष -३ अंक २ ,नवम्बर २०१६ में
मेरी ग़ज़ल जय विजय ,बर्ष -३ अंक २ ,नवम्बर २०१६ में प्रिय मित्रों मुझे बताते हुए बहुत ख़ुशी हो रही है कि मेरी ग़ज़ल जय... Read more
पैसे का मोल
पैसा,वाह रे पैसा ! लोग पुछते नहीं है हाल, बेहाल होने पर गैर भी कूद आते है, पास में माल होने पर । मित्रता-शत्रुता पैसे... Read more
छोड़ के कंचन महल अटारी
???? छोड़ के कंचन महल अटारी, जोगन रूप सजाऊंगी...... वृन्दावन की कुन्ज गली में, अपनी कुटी बनाऊंगी..... ? लट चिपकाऊ,भस्म रमाऊं, लोकलाज बिसराऊंगी...... मन में... Read more
पिता बेटी
!!कभी अपनी सी लगती हैं,कभी गैरो सी लगती हैं!! वह घर की देवी होकर भी,हमें क्यों बोझ लगती हैं!! चली जाती हैं एक दिन वह... Read more