गीत · Reading time: 1 minute

कौन रहा है दुनिया में

सभी जगत को छोड़ चलेंगे, कौन रहा है दुनिया में,
तुम न रहोगे हम न रहेंगे, कौन रहा है दुनिया में?

हाय समय के हाँथों कितने जीव जगत में छले गये,
कितने पंछी नीड़ बनाकर नीर बहाकर चले गये,
बारी बारी सभी उड़ेंगे, कौन रहा है दुनिया में-
तुम न रहोगे हम न रहेंगे, कौन रहा है दुनिया में?

अबतक अनगिन लोग यहाँ पर जन्म लिए आबाद रहे,
वे भी दुनिया छोड़ चले जो सपनों की बुनियाद रहे,
इसी नदी में सभी बहेंगे, कौन रहा है दुनिया में-
तुम न रहोगे हम न रहेंगे, कौन रहा है दुनिया में?

समय के आगे दुनिया की सुन लो है औकात यही,
सूरज चाँद सितारे भी हैं अमर नहीं सच बात यही,
वे मूरख जो दंभ करेंगे, कौन रहा है दुनिया में-
तुम न रहोगे हम न रहेंगे कौन रहा है दुनिया में?

– आकाश महेशपुरी
दिनांक- 27/07/2021

5 Likes · 6 Comments · 244 Views
Like
You may also like:
Loading...