Skip to content

कौन जानता है…….!

कवि रंजित तिवारी

कवि रंजित तिवारी

कविता

January 11, 2018

कौन जानता है
कि–शांत सागर कभी-कभी
तुफान लाता है
फिर–क्या होता है…..?
अकल्पनीय लम्हें…………
सोच से परे पल

जीवन में भी कभी–कभी
आते हैं ऐसे तुफान
विवेक से परे हो जाते लम्हें
गिर जाते सोच के महल
ढ़ह जाता धैर्य का मकान

फिर……….
शांत हो जाता है सबकुछ
शून्य…..विलीन….विहीन….
छिन जाता वो सबकुछ
संजोया जिसे दिन गिन-गिन
चला जाता है तुफान
छोड़कर परछाई अपनी
रोंगटे खड़े कर दे……कल्पना भी
ऐसे अतीत को छोड़कर…………..।

Share this:
Author
कवि रंजित तिवारी
रचनाकार-एक्टर--शिक्षक
Recommended for you