.
Skip to content

कौन अपने- कौन गैर

Dinesh Sharma

Dinesh Sharma

कविता

August 3, 2016

दिल में याद बना लेते है
गैर भी…
अपने भी…
कुछ चुभते है
कुछ यादगार बन जाते है
अपने भी-गैर भी
पहचान न पाये अपनों को भी
गैरो को भी
अपनों में गैर मिले,
गैरो में कमाल के अपने मिले
दोनों के अर्थ के मायने बदल दिये
अपनों के
गैरो के
अपनों को अपना कहे या गैरो को अपना
अब तो अपना भी लगता खुली आँखों का
सपना….

^^^^दिनेश शर्मा^^^^

Author
Dinesh Sharma
सब रस लेखनी*** जब मन चाहा कुछ लिख देते है, रह जाती है कमियाँ नजरअंदाज करना प्यारे दोस्तों। ऍम कॉम , व्यापार, निवास गंगा के चरणों मे हरिद्वार।।
Recommended Posts
कोई गैर
RASHMI SHUKLA शेर Mar 2, 2017
बेशक वो गैर हैं हमारे लिए, मगर अपनों ने भी कहाँ सहारा दिया है, जब भी लड़खड़ाए कदम मेरे जिंदगी के सफर में, उसी गैर... Read more
मुक्तक
जिस मिट्टी में जन्म लिया उस पर सम्मान नही होता। गैरों को पूजा जाता हो अपनों का ध्यान नही होता। पर गैरो की धरती पर... Read more
ग़ज़ल
कोई अपनों के रिश्तो में गैर होते हैं कोई गैर होकर भी जो अपने होते है रिश्तों के नाम से रिश्ता नहीं होता कोई रिश्तों... Read more
** मतलबी लोग **
हमें नफरत है उन लोगों से , जो झूठा दिखावा करते हैं । जुबाँ पर रहस्यमयी मिठास , और दिल में जहर रखते हैं ।।... Read more