Jan 11, 2021 · कविता
Reading time: 1 minute

“कोरोना”

यही अंजुमन और यही शजर सा लगता है..
अब अपना आशियाना बे-घर सा लगता है..

वक्त ने डुबोया है ऐसी महामारी में हमें..
कि अब इंसान को इंसान से डर लगता है..

पहले दिल न मिले तो भी हाथ मिला लेते थे..
अब हाथ मिलाओ तो फंदे में सर लगता है..

इतना जुल्म ढाया है हर किसी ने अपनों पर..
मुझे किसी मजलूम की बद्दुआ का असर लगता है..

जो दिल पत्थर हुआ तो खुद को खुदा मान बैठे थे..
मुझको तो बस यह खुदाई कहर लगता है..

अगर कोई अब लाकर दे अमृत भी मुझे..
मुझको हर प्याले में जहर लगता है..

(#ज़ैद_बलियावी)

Votes received: 31
10 Likes · 18 Comments · 144 Views
Copy link to share
ज़ैद बलियावी
35 Posts · 8k Views
Follow 1 Follower
तुम्हारी यादो की एक डायरी लिखी है मैंने...! जिसके हर पन्ने पर शायरी लिखी है... View full profile
You may also like: