कोरोना

कोरोना के कहर से ,आफत में हर जान ।
अपनी गलती की सजा ,भुगत रहा इंसान ।।
भुगत रहा इंसान ,कर जीवों का संहार ।
विवशता वश देखे ,कुदरत की निष्ठुर मार ।
जो चाहो कल्याण ,जिंदगी से ना रोना ।
घर पर रहो सुरक्षित ,नष्ट होगा कोरोना ।।

– जय श्री सैनी ‘सायक’

2 Comments · 18 Views
ना ही नायक, ना खलनायक ,ना ही मैं कोई गायक हूँ । देश विरोधी ताकत...
You may also like: