कोरोना

विद्यमान है वायरस, व्याकुल विश्व विशाल|
विपदा व्यापक है विकट, विफल वैद्य बेहाल||१

कण कण को कर्कश, किया कोरोना का काल।
कठिन काल करुणा भरा, कहर किया कंकाल||२

भोजन खाना तुम सदा, धोकर अपना हाथ|
संयम, साहस,धैर्य से, देना सबका साथ||३

सुखद सनातन साधना, सेवन शकाहार|
सावधान घर में रहे, सर्व श्रेष्ठ उपचार||४
-लक्षमी सिंह
नई दिल्ली

Like 12 Comment 2
Views 119

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share