" "कोरोना" को तो हरगिज़ है अब ख़त्म होना"

कितने मजबूर, बेबस, बशर हो गए,
कितने क़ुर्बाँ, कोरोना-क़हर हो गए।

चीन से चलके आया, जो इक वायरस,
सारी दुनिया मेँ, इसके चलन हो गए।

साँस लेना मरीज़ों का, दूभर हुआ,
अल्मते-नौ, तबीबे-नज़र हो गए।

रोग था एक हरगिज़, नया रूबरू,
दाँ-ए-साइन्स, भौचक, दहर हो गए।

था दवाओं का, दिखता नहीं कुछ असर,
सब थे टीके के बस, मुन्तज़र हो गए।

मास्क सँग, हाथ धोना, रिवायत बनी,
जलसा-ओ-रौनक़ोँ को, अहद हो गए।

क़ुर्बतेँ यूँ भी रिश्तों मेँ, नापैद थीं,
फ़ासले, और भी अब, अहम हो गए।

कितने मोहताज-ए-रोज़ी-रोटी हुए,
कितने मजदूर थे, दर-ब-दर हो गए।

ख़त्म होना “कोरोना” को हरगिज़ है अब,
सब्रो-ईमाँ के, हम पे, करम हो गए।

अब तो ईजाद, वैक्सीन भी हो गई,
दीप “आशा” के जल, मोतबर हो गए..!

बशर # व्यक्ति,persons
अल्मते-नौ # नये लक्षण,new symptoms
तबीबे-नज़र # चिकित्सकोँ को दिखना,to be visible to doctors
दाँ-ए-साइन्स # वैज्ञानिकगण, scientists
दहर # सँसार(मेँ),(in the) world
मुन्तज़र # प्रतीक्षारत, waiting for
रिवायत # रिवाज, custom
अहद # एक लम्बा अन्तराल,a long interval
क़ुर्बतेँ # नज़दीकियाँ, closeness
नापैद # अप्राप्य, विलुप्तप्राय, non-existent, lost etc.
ईजाद # आविष्कार, invention
मोतबर # विश्वसनीय, reliable

##——-##——-##——-##——-##——##

रचयिता-

Dr.asha kumar rastogi
M.D.(Medicine),DTCD
Ex.Senior Consultant Physician,district hospital, Moradabad.
Presently working as Consultant Physician and Cardiologist,sri Dwarika hospital,near sbi Muhamdi,dist Lakhimpur kheri U.P. 262804 M.9415559964

Voting for this competition is over.
Votes received: 672
104 Likes · 193 Comments · 7508 Views
M.D.(Medicine),DTCD Ex.Senior Consultant Physician,district hospital, Moradabad. Presently working as Consultant Physician and Cardiologist,sri Dwarika hospital,near...
You may also like: