.
Skip to content

कोचिंग कोटा के विद्यार्थियों के मन से

मधुसूदन गौतम

मधुसूदन गौतम

गीत

March 8, 2017

* विद्यार्थी व्यथा *

*******हाडौती में गीत*******

अरी एरी बता, कद आवगी, मन म साता ।

पडबा लिखबा म ही बीत, जोबन की राता।

पन्द्रह साल की उम्रिया म ,
जोबन दस्तक दीन्ही ।
सर प आई बोर्ड परीक्षा,
निन्दां म्हारी छीनी।
अब तो बस पढाई ही
पीता और खाता।

री भाईली कद आवगी
जीवन म साता। पढबा…….

हलो पिताजी हाय माताजी
हाय भाई भोज़ाई
मलबो जुलबो दूसर हो ग्यो
सासरा क नाई।
भूल गई ऋ मूं सगा सम्बन्धी
रिश्ता और नाता।
री भाइली…….

कोचिंग छुट कोलेज म आई,
थोड़ी मस्ती छाई।
जिण साजन न देख्यो कोणी,
वांकी ओल्यु आई।
अब तो लाग दन बरस
ऒर लम्बी लाग राता।

ऋ भाइलि
कद आव्गी जीवन म साता…….
.
***-* मधु गौतम

Author
मधुसूदन गौतम
मै कविता गीत कहानी मुक्तक आदि लिखता हूँ। पर मुझे सेटल्ड नियमो से अलग हटकर जाने की आदत है। वर्तमान में राजस्थान सरकार के आधीन संचालित विद्यालय में व्याख्याता पद पर कार्यरत हूँ।
Recommended Posts
वाह ! ये भायी ।
वाह ! ये भायी !! ************** गर्मी आयी , मन को भायी ! बढ़ जाने पर , हाय बढ़ायी !! ठंडी आयी , लहरें भायी... Read more
गीत भटक रहा बंजारा मन
Geetesh Dubey गीत Mar 30, 2017
गीत **** कभी इधर तो कभी उधर कभी जमीं पे कभी गगन देखो इत उत भागा फिरता भटक रहा बंजारा मन । जाने क्या क्या... Read more
दोहे
शब्द शब्द मुखरित हुआ, छंद छंद नव गीत, मन वीणा बजने लगी, कुसुमित होती प्रीत। गीत नही ये साजना,प्रणय भाव निष्काम, जीवन के हर पृष्ठ... Read more
ग्वाल वाल राधिका-- गोपियों से अंतस: जितेंद्रकमलआनंद ( पोस्ट८०,गीत)
Jitendra Anand गीत Oct 23, 2016
कवि के गीत वसंती ऋतु में पवने भी मनमोहित करते ।। ग्वाल - वाल ,राधिका - गोपियों से अंतस आनंदित करते ।। रंग - पर्व... Read more