Skip to content

कोई तो है

अमरेश गौतम

अमरेश गौतम

कविता

December 12, 2016

सोई हुई रातों में, धड़कनें बढ़ाती है,
कोई तो है जो दिल को लुभाती है।

उस बात की आज भी, देखिए खुमारी है,
मुस्कुराकर जब कहा था,जान भी तुम्हारी है।
यादों में रह-रह कर,आती औ जाती है,
कोई तो है………..

नटखट उन अदाओं पर, गीत क्या लिखेंगे अब,
वर्षों की दरमियाँ और विरह क्या लिखेंगे अब।
वक्त की मार हर शख्स को रूलाती है,
कोई तो है………..

Share this:
Author
अमरेश गौतम
कवि/पात्रोपाधि अभियन्ता
Recommended for you