.
Skip to content

कोई तो है

अमरेश गौतम

अमरेश गौतम

कविता

December 12, 2016

सोई हुई रातों में, धड़कनें बढ़ाती है,
कोई तो है जो दिल को लुभाती है।

उस बात की आज भी, देखिए खुमारी है,
मुस्कुराकर जब कहा था,जान भी तुम्हारी है।
यादों में रह-रह कर,आती औ जाती है,
कोई तो है………..

नटखट उन अदाओं पर, गीत क्या लिखेंगे अब,
वर्षों की दरमियाँ और विरह क्या लिखेंगे अब।
वक्त की मार हर शख्स को रूलाती है,
कोई तो है………..

Author
अमरेश गौतम
कवि/पात्रोपाधि अभियन्ता
Recommended Posts
सब गरीब है , इबादत लिखेंगे
कभी मिले तो शिकायत लिखेंगे कैसी है अब, तबियत लिखेंगे, हार गया है ज़माने से जो जो उनके लिए अब हिमायत लिखेंगे, प्रश्न रह गये... Read more
भूल जाओ किसका आना रह गया
क्या बताऊँ? क्या बताना रह गया सोचता बस यह, ज़माना रह गया क्या यही चारागरी है चारागर! जख़्म जो था, वो पुराना...! रह गया लोग... Read more
मन्ज़रों के नाम होकर रह गयी
मन्ज़रों के नाम होकर रह गयी खास सुरत आम होकर रह गयी रात दुख की काटकर बैठै ही थे जिन्दगी की शाम होकर रह गयी... Read more
जलवायु परिवर्तन में कविता : अंदाज़े बंया क्या हैं!
ये धुँआ धुँआ सा अब क्या हैं देखो जँहा को क्या हो गया हैं! नही किसी को फ़िक्र कल की ये जीने का अन्दाज़े बंया... Read more