23.7k Members 50k Posts

कोई जब रूह गढ़ता हूँ तो.......

कोई जब रूह गढ़ता हूँ तो वो शब्द बन जाता हैं,
कोई जब शब्द गढ़ता हूँ तो वो आवाज़ बन जाता हैं,
मै क्या दर्द लिखु इश्क़ और इश्क़ बाज का,
जब मै रूप गढ़ता हूँ तो वो “माँ” बन जाता हैं।
–सीरवी प्रकाश पंवार

12 Views
seervi prakash panwar
seervi prakash panwar
Atbara, tec.-sojat city, dis.-pali rajasthan 306104
39 Posts · 550 Views
नाम - सीरवी प्रकाश पंवार पिता - श्री बाबूलाल सीरवी माता - श्री मती सुन्दरी...
You may also like: