.
Skip to content

कोई आने वाला है…………………

Er Dev Anand

Er Dev Anand

कविता

August 12, 2017

जब हर लाल में
तुम्हें “बालगोपाल”
नजर आए
जब कोई बाल
कर रहा हो जिद्
खाने को
दही मक्खन और मलाई
आए मुस्कान सहज होठों.पर
देख उसकी चतुराई ।
जब चल रहा
हो लाला
घुटनों पै
और बज रही हो पायल
उसकी पैरन में
देख आए तुम्हें हंसी,
जाए जाग भावना
मातृत्व की मन में ।
जब कभी सुनो
धुन बांसुरी की
जब हर धुन में
तुम्हें “मुरारी”
याद आए ।
समझ लेना प्रेम है
तुम्हें उनसे
और उनको है
प्रेम तुमसे
जो आने वाले हैं
कुछ दिनों में
मिलने
हम सबसे।

Author
Er Dev Anand
दिमाग से इंजीनियर दिल से रचनाकार ! वस्तुतः मैं कोई रचनाकार नहीं हूँ, मैं एक इंजीनियर हूँ । मैं वही लिखता हूं जो मेरी आंखें देखती हैं और दिल समझता है उन्हें को कलम के सहारे में व्यक्त कर देता... Read more
Recommended Posts
नदी के दो किनारे (लघु कथा)
जीवन संध्या में दोनों एक दूसरे के लिए नदी की धारा थे। जब एक बिस्तर में जिन्दगी की सांसे गिनता है तो दूसरा उसको सम्बल... Read more
।।सिर्फ़ काली लड़कियां ।। - निर्देश निधि “सिर्फ काली लड़कियां” मेरी प्यारी बहन अन्नी आज तुझे हमसे बिछड़े हुए पूरे अट्ठाईस बरस हो गए, अगर... Read more
मिर्जा साहिबा
मोहब्बत की दुनिया में साहिबा का नाम विश्वास और धोखे के ताने बाने में उलझा सा प्रतीत हो... तब भी मिर्जा साहिबा का इश्क कहीं... Read more
कहानी---  गुरू मन्त्र----  निर्मला कपिला
कहानी--- गुरू मन्त्र---- निर्मला कपिला मदन लाल ध्यान ने संध्या को टेलिवीजन के सामने बैठी देख रहें हैं । कितनी दुबली हो गई है ।... Read more