.
Skip to content

कैसे होगा भला देश का

विजय कुमार अग्रवाल

विजय कुमार अग्रवाल

कविता

November 12, 2016

कैसे होगा भला देश का मोदीजी ने यही बताया ।
नींद उड़ गई पडोसियो की काला धन सब बाहर आया ॥
राजनिती के इतिहास में कोई नहीँ ऐसा कर पाया ।
वचन दिया जो देश भक्ति का पूरी तरहा से उसे निभाया ॥
देश के देखो हरेक बेंक में लाइन में लगने हर कोई आया ।
परेशानी हो रही सभी को कुछ को रुपया मिल नहीँ पाया ॥
फ़िर भी सबने देश की खातिर हर मुश्किल को गले लगाया ।
फैसला देश के हित में है यह जनमानस ने यहीं बताया ॥
माया जी के होश उड़ गये और मुलायम को चक्कर आया ।
राहुल ने लग कर लाइन में परेशानी का ढोंग रचाया ॥
कोई कहे यह तानाशाही किसी ने इसको सही बताया ।
अस्सी कहे के यहीं सही है बीस ने इसको गलत बताया ॥
जनता को जो लूट रहे थे अब खुद उनका नम्बर आया ।
कैसे होगा भला देश का मोदीजी ने यहीं बताया ॥

विजय बिज़नोरी

Author
विजय कुमार अग्रवाल
मै पश्चिमी उत्तर प्रदेश के बिजनौर शहर का निवासी हूँ ।अौर आजकल भारतीय खेल प्राधिकरण के पश्चिमी केन्द्र गांधीनगर में कार्यरत हूँ ।पढ़ना मेरा शौक है और अब लिखना एक प्रयास है ।
Recommended Posts
नोट बदल गये देश बदलेगा
सुबहा से उठकर लाइन में लग गये शाम को मेरा नम्बर आया । खुशी के मारे उछल पड़ा मैं नया नोट जब हाथ में पाया... Read more
जख्म दिल का भला कैसे छिपाया होगा
जख्म दिल का भला कैसे छिपाया होगा उभरकर सामने ही दर्द जब आया होगा दास्तां बेवफ़ाई की सुन उस सितमगर की अपना टूटा हुआ दिल... Read more
कैसे कहु मेरा देश आजाद है/मंदीप
समझा जाता जहाँ नारी को जूती के समान, होता जहाँ नारी का हर रोज अपमान, कैसे कहु मेरा देश आजाद है। बन्दी पट्टी जिस देश... Read more
नशाखोरी
मिट रही है युवा पीढ़ी आज मेरे देश का, नशाखोरी बन रहा दुर्भाग्य मेरे देश का। शर्म आंखों की मीटी है मुख पे है गाली... Read more