कैसे होगा भला देश का

कैसे होगा भला देश का मोदीजी ने यही बताया ।
नींद उड़ गई पडोसियो की काला धन सब बाहर आया ॥
राजनिती के इतिहास में कोई नहीँ ऐसा कर पाया ।
वचन दिया जो देश भक्ति का पूरी तरहा से उसे निभाया ॥
देश के देखो हरेक बेंक में लाइन में लगने हर कोई आया ।
परेशानी हो रही सभी को कुछ को रुपया मिल नहीँ पाया ॥
फ़िर भी सबने देश की खातिर हर मुश्किल को गले लगाया ।
फैसला देश के हित में है यह जनमानस ने यहीं बताया ॥
माया जी के होश उड़ गये और मुलायम को चक्कर आया ।
राहुल ने लग कर लाइन में परेशानी का ढोंग रचाया ॥
कोई कहे यह तानाशाही किसी ने इसको सही बताया ।
अस्सी कहे के यहीं सही है बीस ने इसको गलत बताया ॥
जनता को जो लूट रहे थे अब खुद उनका नम्बर आया ।
कैसे होगा भला देश का मोदीजी ने यहीं बताया ॥

विजय बिज़नोरी

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like Comment 0
Views 130

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share