Skip to content

” ————————————— कैसे दिल बहलाएं ” !!

भगवती प्रसाद व्यास

भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "

गीत

August 10, 2017

कठिन डगर है पग में छाले , अब तो चला न जाए !
हमराही ने बांह छोड़ दी, व्यथा सही न जाए !!

सपने टूटे , ऐसे बिखरे , आंखें ठगी ठगी सी !
अपनों ही ने हमको लूटा , कैसे दिल बहलाएं !!

ग्रहण लगा है अगर चांद को , नज़रें सभी चुराये !
समय अछूत बना दे हमको , डुबकी कहाँ लगाएं !!

पावन रिश्ता मन से जोड़ा , गाँठे रेशम रेशम !
हाथ से छूटा , एसा टूटा , पकड़ नहीं हम पाये !!

झूठी कसमें , झूठे वादे , आखिर दिल टूटा है !
आंख मूंद कर चलने वाले , छलना ही बस पाएं !!

जब लिए तूलिका चित्र उकेरे , कैनवास खाली था !
झूंठी तस्वीरों को बोलो , अब हम कहाँ सजाएं !!

दिन है चुप चुप , रातें चुप सी , दामन खामोशी का !
समय ने करवट एसी बदली , चुप से काम चलाएं !!

बृज व्यास

Share this:
Author
भगवती प्रसाद व्यास
एम काम एल एल बी! आकाशवाणी इंदौर से कविताओं एवं कहानियों का प्रसारण ! सरिता , मुक्ता , कादम्बिनी पत्रिकाओं में रचनाओं का प्रकाशन ! भारत के प्रतिभाशाली रचनाकार , प्रेम काव्य सागर , काव्य अमृत साझा काव्य संग्रहों में... Read more
Recommended for you