.
Skip to content

कैसे कहूँ कि तेरे बिना ग़म नहीं हुआ

आनंद बिहारी

आनंद बिहारी

गज़ल/गीतिका

July 26, 2016

कैसे कहूँ कि तेरे बिना, ग़म नहीं हुआ
जो भी हुआ, जितना हुआ कम नहीं हुआ।

औरों की तरह मैं भी तन्हा जी गया तो क्या
सच कहूँ जीने का कभी भरम नहीं हुआ।

कह सकूँ तो कह दूं, मगर कह नहीं सकता
मेरे दर्दे-दिल का कोई मरहम नहीं हुआ।

थक भी गया हूँ, अब मैं तेरे इंतज़ार में
मगर हौसला है, मैं अभी बेदम नहीं हुआ।

इक दिन भी ऐसा ना हुआ, तुम याद ना आए
अब तक मगर तेरा कोई रहम नहीं हुआ।

©आनंद बिहारी, चंडीगढ़
https://facebook.com/anandbiharilive/

Author
आनंद बिहारी
गीत-ग़ज़लकार by Passion नाम: आनंद कुमार तिवारी सम्मान: विश्व हिंदी रचनाकार मंच से "काव्यश्री" सम्मान जन्म: 10 जुलाई 1976 को सारण (अब सिवान), बिहार में शिक्षा: B A (Hons), CAIIB (Financial Advising) लेखन विधा: गीत-गज़लें, Creative Writing etc प्रकाशन: रचनाएँ... Read more
Recommended Posts
मुक्तक
कैसे कहूँ कि तेरा दीवाना नहीं हूँ मैं! कैसे कहूँ कि तेरा परवाना नहीं हूँ मैं! जब छलक रही है मदहोशी तेरे हुस्न से, कैसे... Read more
तेरे बिना
दिल कहीं न लागे तेरे बिना ! सुख सुख ना लागे तेरे बिना !! अब मेरा इस पर जोर कहाँ ! जाने कहाँ ये भागे... Read more
मुक्तक
कैसे कहूँ कि अब तुमसे प्यार नहीं रहा! कैसे कहूँ कि तेरा इंतजार नहीं रहा! हरपल करीब होती है तेरी जुस्तजू, कैसे कहूँ कि तेरा... Read more
विचलित हूँ
तेरे जाने से मैं विचलित हूँ, कैसे? कहूँ तुम आ जावो, जलता हूँ मैं विरह में तेरे, कैसे?कहूँ तुम विरह मिटावो, कुछ किरणे,कुछ धूप सनम,... Read more