कैसे कहूँ कि तेरे बिना ग़म नहीं हुआ

कैसे कहूँ कि तेरे बिना, ग़म नहीं हुआ
जो भी हुआ, जितना हुआ कम नहीं हुआ।

औरों की तरह मैं भी तन्हा जी गया तो क्या
सच कहूँ जीने का कभी भरम नहीं हुआ।

कह सकूँ तो कह दूं, मगर कह नहीं सकता
मेरे दर्दे-दिल का कोई मरहम नहीं हुआ।

थक भी गया हूँ, अब मैं तेरे इंतज़ार में
मगर हौसला है, मैं अभी बेदम नहीं हुआ।

इक दिन भी ऐसा ना हुआ, तुम याद ना आए
अब तक मगर तेरा कोई रहम नहीं हुआ।

©आनंद बिहारी, चंडीगढ़
https://facebook.com/anandbiharilive/

8 Comments · 514 Views
गीत-ग़ज़लकार by Passion नाम: आनंद कुमार तिवारी सम्मान: विश्व हिंदी रचनाकार मंच से "काव्यश्री" सम्मान...
You may also like: