Apr 15, 2018 · कविता

कैसे आयी होगी

लूट कर एक मासूम की इज़्ज़त
तुम्हे नींद कैसे आयी होगी ,
अगर वो चिल्लाई होगी …तुम्हे अपनी बेटियां तो याद आयी होगी
इंसानियत की हवस तोड़ कर ..खुद को शेर समझने वाले
तुम जालिमो को इतनी हिम्मत कहा से आयी होगी
वो तड़पती रही तुम्हारे सामने जिंदगी को लेकर
थोड़ी सी तो दिल में रहम आयी होगी
तुम इतने बेशर्म कैसे हो गए जालिमो ,
तुम्हारे माँ बाप ने शायद ऐसी तालीम दिलायी होगी ।
तुमने तड़पा कर उन नन्ही बेटियो को …
अपनी बेटियों से आँख कैसे मिलायी होगी ।

✍🏻 :- हसीब अनवर

2 Likes · 110 Views
यादों के सिलसिले चलते ही रहते है , इश्क़ हो या मौत मिलते ही रहते...
You may also like: