Skip to content

कैकयी

Rishav Tomar (Radhe)

Rishav Tomar (Radhe)

कविता

September 13, 2017

मैं कैकयी हूँ मेरा मेरा दर्द तुम क्या जानो
एक स्त्री की पीड़ा को भला तुम क्या जानो
जिसे ह्रदय में पथ्थर रखकर भेजा था वन
वो मेरा पुत्र राम था ये सब तुम क्या जानो

माँ की ममता तड़पी है ये तुम क्या जानो
अधर्म मुक्त करनी थी धरती ये तुम क्या जानो
रघुकुल का सम्मान मुकुट था पापी के पास
जानते हुये भी ये सब भला तुम क्या जानो

क्या बीती होगी मुझ माँ पर ये तुम क्या जानो
कैसे भेजा होगा नयनों प्यारा वन ये क्या जानो
मैं कलंकिनी हूँ कुलटा हूँ औऱ क्या कहते हो
मैं दिये की बत्ती सी जली ये तुम क्या जानो

पिया है मैंने भी हलाहल ये तुम क्या जानो
रोयी हूँ मैं भी पल पल ये सब क्या जानो
भरत से भी प्रिय था मुझे मेरा प्यारा राम
भला दुनियाँ में ये सब कुछ तुम क्या जानो

मैंने भी किया है त्याग भला तुम क्या जानो
मान प्रतिष्ठा सब धूमिल की है ये क्या जानो
मै ठहरी एक अभागिन अबला निर्बल स्त्री
इस स्त्री की व्यथा को तुम सब क्या जानो

रघुकुल की आबरू बचानी थी तुम क्या जानो
मुकुट बिन बेकार सब तैयार थी ये क्या जानो
अपने प्राणों से प्रिये राम को भेजा था वन में
वहाँ मेरा बेटा था ये सबकुछ तुम क्या जानो

मैं अभागिन कैकयी हूँ मुझे तुम क्या जानो
जली हूँ अग्नि कुंड सी तुम क्या पहिचानो
शिव की तरह पीकर हलाहल नीलकंठ न हुई
हो गई हूँ गुमनाम मुझे तुम क्या पहिचानो

मैं बेबसी हूँ उदासी की सखी हूँ तुम क्या जानो
मैं भी एक औरत हूँ भला मुझे तुम क्या जानो
किस तरह भेजा है 14 वर्ष वन में पुत्र को
ये पीड़ा भला माँ के सिवा तुम क्या जानो

ऋषभ परेशान है तुम्हारे लिये तुम क्या जानो
कैकयी की वेदना को भी तुम क्या जानो
अधर्म को मिटाकर रामराज्य लाना था उसे
इस त्याग की कहानी को तुम क्या जानो

Author
Rishav Tomar (Radhe)
ऋषभ तोमर अम्बाह मुरैना मध्यप्रदेश से है ।गणित विषय के विद्यार्थी है।कविता गीत गजल आदि विधाओं में साहित्य सृजन करते है।और गणित विषय से स्नातक कर रहे है।हिंदी में प्यार ,मिलन ,दर्द संग्रह लिख चुके है
Recommended Posts
** तुम वफ़ा क्या जानो **
6.5.17 ***** रात्रि 11.11 तुम वफ़ा क्या जानो तुम जफ़ा क्या जानो क्यों कोई तुमसे ख़फा हो तुम क्या जानो ख़ार है या प्यार है... Read more
भारत माँ की शान हो तुम... ...बेटियां.....
बेटी आँगन का फूल हो तुम... जीवन स्वर में संगीत हो तुम... मेरी आँखों में ज्योति हो तुम... साँसों में प्राण मेरे हो तुम... तुम... Read more
जानो मुझको बस इंसान
सच हो सपनों की मुस्कान पंखों को मेरे मिले उड़ान व चाहूँ मैं अतिशय ध्यान जानो मुझको बस इंसान| दिवस विशेष का देकर दान क्यों... Read more
आज़ादी और देश प्रेम विशेषांक
_________________________ आज़ादी कहीं खोई नहीं थी जो मिल गई, आज़ादी दिलवाई है उन शहादतो नें उन बलिवानों नें कुर्बान हुए जो इस वतन के लिए... Read more