गीत · Reading time: 1 minute

कृषक*जेठ की दुपहरी*

५)
“कृषक ”
जेठ की दुपहरी।
भानु दिखा रहाथा,आँखें छरहरी।।
*********
सर पर तपती धूप
धूप का क्रूर रूप,
वो बो रहा है
पसीने में तर बतर हो रहा है;
लेकिन आँखों में एक चमक ठहरी।
जेठ की दुपहरी।।
************

घटाओं का दूर -दूर तक,न था कोई नामो निशान ,
लेकिन कर्म-पथ पर निरंतरहै अग्रसर,हुए बिन परेशान;
आशान्वित है बन कर एक प्रहरी।
जेठ की दुपहरी।।
************

सूखे पत्तों की सरसराहट में ,सुनाई देती है सरगम;
हवा का झोंका जब बदन को छूता है,भूल जाता है वो सारे गम।
और एक नई किरण जग जाती है
तब वो लेता है साँस गहरी।
जेठ की दुपहरी।।

1 Like · 48 Views
Like
Author
साहित्यिक नाम-अटल मुरादाबादी विधि नाम-विनोद कुमार गुप्त शिक्षा-बी ई(सिविल इंजी०) एम०बी०ए०,एम०फिल(एच आर एम) सम्प्रति -सरकारी विभाग में सिविल इंजीनियर रुचि-हिन्दी साहित्य ,समाज सेवा व शिक्षा महामंत्री -दिल्ली हिंदी साहित्य सम्मेलन”सनेही…
You may also like:
Loading...