23.7k Members 49.9k Posts

कुम्हार

मिट्टी के बर्तन बनानेवाले
कहलाते है वे कुम्हार,
पृथ्वी की रचना करनेवाले
भगवान को भी देते आकार;
क्या गरिमा है उसकी
हमसे न पूछो मेरे यार,
अदृृश्यमान सृष्टिकर्ता है भगवान
दृृश्यमान है सिर्फ कुम्हार;
मिट्टी को सोना बना देते
फिरभी जुटा न पाते रोटी,
जिंदगी गुजरती है काँटों पर
मुंह से उफ निकलती नहीं ।

Like Comment 0
Views 52

You must be logged in to post comments.

LoginCreate Account

Loading comments
Bikash Baruah
Bikash Baruah
Guwahati, Assam
100 Posts · 2.2k Views
मैं एक अहिंदी भाषी हिंदी नवलेखक के रूप मे साहित्य साधना की कोशिश कर रहा...