.
Skip to content

कुन्डलियां :– माँ

Anuj Tiwari

Anuj Tiwari "इन्दवार"

कुण्डलिया

February 28, 2017

कुन्डलियां :– माँ

माँ में ममता , वात्स्यना ,
मोह , मृदुल , मुस्कान ।

इक पावन स्पर्श ही ,
महकाए गुलदान ।

महकाए गुलदान ,
खिले फल मीठे सुन्दर।

एक मनोहर गंध ,
मिलेगी उसके ऊपर ।।

कहे “अनुज” अनमोल ,
नहीँ है कोई समता ।

जगजाहिर है प्यार ,
बड़ी निश्छल है ममता ॥

रचनाकार :– अनुज तिवारी “इंदवार ”

नोट :–
*वात्स्यना* शब्द कहीँ भी किसी भी शब्दकोष में नहीँ मिलेगा !
इसका उपयोग मैंने अपनी इस रचना के अनुरूप किया है , जिसका अर्थ (वात्स्यना :- माँ का वात्सल्य प्रेम )है ।

Author
Anuj Tiwari
नाम - अनुज तिवारी "इन्दवार" पता - इंदवार , उमरिया : मध्य-प्रदेश लेखन--- ग़ज़ल , गीत ,नवगीत ,कविता , हाइकु ,कव्वाली , तेवारी आदि चेतना मध्य-प्रदेश द्वारा चेतना सम्मान (20 फरवरी 2016) शिक्षण -- मेकेनिकल इन्जीनियरिंग व्यवसाय -- नौकरी प्रकाशित... Read more
Recommended Posts
माँ नियति है
" माँ नियति है " ------------------- माँ गीता... माँ कुरान है ! माँ आन-बान और शान है | माँ ममता है माँ त्याग है !... Read more
माँ  (एक शब्द महान)
माँ एक शब्द महान जिससे जन्म लिए इंसान । माँ ममता की खान माँ मे समाया सारा जहान । माँ ममता की मूरत माँ की... Read more
*****माँ जैसा कोई नहीं****
करुणामयी , ममतामयी होती है सिर्फ माँ सब पर प्यार बरसाने वाली होती है सिर्फ माँ ममता का आँचल फैलाने वाली होती है सिर्फ माँ... Read more
मुक्तक :-- अदाकारी खरीदी जा नहीँ सकती ॥
मुक्तक :-- अदाकारी खरीदी जा नहीँ सकती ॥ हकीकत है अदाकारी खरीदी जा नहीँ सकती । जो फैली दिल में हो अक्सर बिमारी जा नहीँ... Read more