23.7k Members 49.9k Posts

कुदरत।

जाने कैसे मुकाम पे आकर,
ये दुनिया गई ठहर है,

पिंजड़े में जानवरों को रखता था इंसान,
आज कैद घर में हर पहर है,

जाने कैसी शाम है ये,
और होती कैसी सहर है,

सारी दिशाओं में फैला हुआ,
भयानक मौत का ज़हर है,

सहम सी गई है ज़िंदगी मानो,
हर आंख में डर की लहर है,

झुंझला उठी हम इंसानों पे शायद,
आज कुदरत बरसाती कहर है,

जाने कैसे मुकाम पे आकर,
ये दुनिया गई ठहर है।

कवि-अम्बर श्रीवास्तव

Like 4 Comment 5
Views 70

You must be logged in to post comments.

LoginCreate Account

Loading comments
Amber Srivastava
Amber Srivastava
Bareilly,(UP)
92 Posts · 6.4k Views
लहजा कितना ही साफ हो लेकिन, बदलहज़ी न दिखने पाए, अल्फ़ाज़ों के दौर चलते रहें,...