Jun 13, 2016 · कुण्डलिया
Reading time: 1 minute

कुण्डलिया

बिन मोबाइल हाथ में, रहे न ऊंची शान,
जपूँ फेस बुक रोज मैं, व्हाट्स एप में ध्यान।
व्हाट्स एप में ध्यान , दाल चूल्हे पर जलती,
साग नमक है तेज़, रोज साजन से ठनती।
लाइक सौ सौ बार, कॉमेन्ट करते स्माइल,
मुश्किल जीवन होय, तुम्हारे बिन मोबाइल।

दीपशिखा सागर-

38 Views
Copy link to share
Deepshika Sagar
23 Posts · 1.2k Views
Poetry is my life View full profile
You may also like: