Skip to content

कुटिल इन्सान कब होता कुटिल तो चाल होती है

Dr Archana Gupta

Dr Archana Gupta

मुक्तक

October 22, 2016

कुटिल इन्सान कब होता कुटिल तो चाल होती है
बुराई देखकर इंसानियत बे हाल होती है
करो तुम नेह की बर्षा पिघल जाये कुटिल मन भी
भरा हो नेह दिल में तो मनुजता ढाल होती है
डॉ अर्चना गुप्ता

Author
Dr Archana Gupta
Co-Founder and President, Sahityapedia.com जन्मतिथि- 15 जून शिक्षा- एम एस सी (भौतिक शास्त्र), एम एड (गोल्ड मेडलिस्ट), पी एचडी संप्रति- प्रकाशित कृतियाँ- साझा संकलन गीतिकालोक, अधूरा मुक्तक(काव्य संकलन), विहग प्रीति के (साझा मुक्तक संग्रह), काव्योदय (ग़ज़ल संग्रह)प्रथम एवं द्वितीय प्रमुख... Read more
Recommended Posts
प्रेम का दीप, नेह का पुष्प
प्रेम का दीप, नेह का पुष्प कब जलेगा कब खिलेगा ह्रदय में हे राम ! कब तलक अपनी सुरभि को आप खोजेंगे सुमन, कब नाभि... Read more
नेह
नेह की परिभाषा क्या है ? नेह की अभिलाषा क्या है ? नेह बगिया में खिलता फूल नेह मानव की प्यारी भूल । नेह ही... Read more
महाभारत तो जीतना होगा
हे कृष्ण कब आओगे आतंक का विकराल तांडव कब तक देखोगे अर्जुन आज अवसाद में है गीता पुनःसुनानी होगी सारथी बन राह दीखानी होगी फिर... Read more
सातवां आसमाँ
मैं अक्सर देखता हूँ उनकी राह जो बैठे हैं सातवें आसमाँ पर इन्सान को भूलकर, हे प्रभु!अल्लाह!गॉड!... कब समझेंगे इन्सान की पीड़ा और बेबसी, क्या... Read more