.
Skip to content

कुछ सिमटे मोती थे…..

शालिनी साहू

शालिनी साहू

कविता

October 20, 2017

झिलमिलाते दीपों की ओट
में कुछ सिमटे मोती थे !
उत्सव था प्रकाश पर्व का
दूर करना था अन्तस के
अँधेरे को!
खट्टी-मीठी यादों का आँगन
फिर से प्रज्वलित हुआ असंख्य
दीप जले !
बस जला न सके वो दीप
जो अन्तस को कर देता रौशन!
कमी हमेशा उर में सालती है
उस दीप की जिससे रौशन
घर आँगन था
अन्तस का प्लावित हर
कोना था!
कुछ दीप बुझे तो जले नहीं
बस स्मृतियों में प्रकाश शेष रह गये
नयन सीपी गिरे बिफर कर
अन्त:करण वेदना से भर गया
एक दीप जो सदा के लिए
अँधेरे से भर गया!
……
शालिनी साहू
ऊँचाहार,रायबरेली(उ0प्र0)

Author
Recommended Posts
*** हे दीप देव !!!
हे दीप देव !!! हे दीप देव ! मन- मलिनता चूर करो ।। अज्ञान रूपी मलेच्छ को अब दूर करो । हर घर का तुम... Read more
जग-मग दीप जले
जग-मग दीप जले _______________________ चहके जीवन, महके तन-मन, जग-मग जग-मग दीप जले। धुनों में तेरे प्‍यार की, मेरे कदम हैं बढ़ चले। उदफुद है मेरा... Read more
दीप
Neelam Sharma शेर Oct 17, 2017
आलोक के अर्थात् का,दीप के दिव्यार्थ का। तम से नव प्रकाश का, वैभव के आकाश का। ज्योति-पर्व की शुभ बेला में,हर दीप की आस पुगे,... Read more
दीप
खुशी से जगमग हो जीवन दीप पंक्तियां दमके चमके स्निग्ध तेल हो मन मे सबके दयाभाव हो हममे सब मे जगमग करदे नगर डगर मे... Read more