.
Skip to content

कुछ मुक्तक

gopal pathak

gopal pathak

शेर

May 3, 2017

तेरे इस अहसास को अहसान बना लू
तुझको जिन्दगी का महमान बना लू
पलकों पर रखु तुझको या दिल में सहज लू
लगता है तुझको अपना भगवान बना लू

इन्तहां ये प्यार का लेना हो तो और लो
दिल अगर न काम आये तो मांग मेरी जान लो

Author
gopal pathak
मै साहित्य का अदना सा कलमकार हूँ माँ शारदे की कृपा से थोडा बहुत लिख लेता हूँ /मै ज्यादातर श्रंगार पर लिखता हूँ/और वीर लिखता हूँ/
Recommended Posts
गीता और कुरान बना लो नयी सोच को, रामायण का गान बना लो नयी सोच को। क़दम-क़दम चल देश की ख़ातिर अब वंदे, भारत का... Read more
लिखूँ तेरा नाम
लिखू आज एक अन्तरा नाम तुम्हारे. पहली पंक्ति का प्रथम अक्शर तुम.से छन्द चौपाई दोहा सोरठा मे आकर. शब्दो मे उतर कर बरबस लिख जाते... Read more
लिखूँ आज
लिखू आज एक अन्तरा नाम तुम्हारे. पहली पंक्ति का प्रथम अक्शर तुम.से छन्द चौपाई दोहा सोरठा मे आकर. शब्दो मे उतर कर बरबस लिख जाते... Read more
** नहीं कम किसी से हम **
ऐ चाँद तुझको फलक से ज़मी पर उतार लाएंगे हम मत दिखा तूं अपनी जादूगरी नहीं कम किसी से हम तुझको बना के छोड़ेंगे दिल... Read more