कुछ मुक्तक

तेरे इस अहसास को अहसान बना लू
तुझको जिन्दगी का महमान बना लू
पलकों पर रखु तुझको या दिल में सहज लू
लगता है तुझको अपना भगवान बना लू

इन्तहां ये प्यार का लेना हो तो और लो
दिल अगर न काम आये तो मांग मेरी जान लो

18 Views
+918279648462, कवि गोपाल पाठक जी अन्तर्राष्ट्रीय कवि हैं।इन्होंने कई एलबम में गीत लिखे हैं और...
You may also like: